नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। नई दिल्ली, पीटीआइ। ईंधन और बिजली की कीमतों में गिरावट के चलते इस साल जून में थोक महंगाई दर में सालाना आधार पर 1.81 फीसद की कमी देखने को मिली। हालांकि, इस अवधि में खाने-पीने की वस्तुएं महंगी बनी रहीं। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, ''मासिक थोक मूल्य सूचकांक (WPI) पर आधार मुद्रास्फीति की सालाना दर जून, 2020 में (-) 1.81 फीसद पर रही, जो पिछले साल के इसी महीने में 2.02 फीसद पर थी।''

मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक जून में खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर 2.04 फीसद पर रही, जो मई में 1.13 फीसद पर रही थी। ईंधन और बिजली की कीमतों में 13.60 फीसद की कमी जून, 2020 में देखने को मिली। 

विनिर्मित वस्तुओं के थोक दाम में इस साल जून में 0.08 फीसद की वृद्धि देखने को मिली। वहीं, मई में विनिर्मित वस्तुओं के दाम में 0.42 फीसद की कमी देखने को मिली।

(यह भी पढ़ेंः अगर खो गया है Credit Card तो तुरंत करें ये 3 काम, वरना बाद में होगा बहुत नुकसान)

इसी बीच अप्रैल, 2020 की थोक महंगाई दर से जुड़ा अंतिम आंकड़ा आ गया है। मंत्रालय के मुताबिक इस साल अप्रैल में थोक महंगाई दर 1.57 फीसद पर रही।

इससे पहले मई में थोक मुद्रास्फीति (-) 3.21 फीसद और अप्रैल में (-) 1.57 फीसद पर रही थी। मार्च में थोक महंगाई दर 0.42 फीसद पर रही थी।

जून में सब्जियों एवं प्याज की मुद्रास्फीति क्रमशः (-) 9.21 फीसद (-) 15.27 फीसद पर रही। वहीं, आलू के दाम में 56.20 फीसद की बढ़ोत्तरी देखने को मिली।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस