नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। जेट एयरवेज ने अपने कर्मचारियों को सितंबर माह की आधी सैलरी 11 अक्टूबर तक देने को कहा था लेकिन, कंपनी फिर से इसमें डिफॉल्ट हो गई। एयरलाइन ने अपने कर्मचारियों से माफी मांगते हुए कहा कि वह वेतन भुगतान के लिए समाधान तलाश रहे हैं। साथ ही एयरलाइन के मैनेजमेंट ने पायलट के प्रतिनिधियों से बात की और अगले सप्ताह इस पर कोई फैसला लेने को कहा। बता दें कि अगस्त की सैलरी में भी देरी हुई थी।

दरअसल जेट एयरवेज नकदी के संकट से जूझ रही है। अगस्त के वेतन का भुगतान न करने के बाद एयरलाइन ने कहा था कि वह वेतन नवंबर तक दो हिस्सों में दे देगी। अगस्त का वेतन 11 सितंबर और 26 सितंबर को देना था जबकि सितंबर का वेतन 11 अक्टूबर और 26 अक्टूबर को देना है।

सोमवार को ट्वीट करते हुए एयरलाइन ने कहा, 'सैलरी देने में हुई देरी पर हम मांफी मांगते हैं, आपने अब तक जिस धैर्य का परिचय दिया है तारीफ़ के लायक है, हम आपको बताना चाहते हैं कि हमारी मुलाकात पायलट के प्रतिनिधियों से हुई है और हम इसके समाधान के लिए प्रयासरत हैं और अगले सप्ताह इसपर कोई फैसला लिया जाएगा।

जेट एयरवेज ने अगस्त की सैलरी का दूसरा पार्ट भी 27 सितंबर के बजाय 8 अक्टूबर को दिया। अप्रैल-जून तिमाही में जेट एयरवेज को 1,323 करोड़ रुपए का घाटा हुआ। जनवरी-मार्च में 1,036 करोड़ का नुकसान हुआ था। हवाई ईंधन महंगा होने, डॉलर के मुकाबले रुपए में गिरावट और सस्ते टिकटों के कंपीटीशन की वजह से एयरलाइंस पर दबाव बढ़ा।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitesh