जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भारतीय बाजार में कुछ अमेरिकी उत्पादों की पहुंच और आसान हो सकती है। इस संबंध में अगले सप्ताह सचिवों की अंतर मंत्रालयी समिति विचार करेगी। इसके तहत डेयरी उत्पादों से लेकर मेडिकल डिवाइस और अखरोट जैसे उत्पादों पर आयात शुल्क में राहत देने का प्रस्ताव है। वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय कारोबार को रफ्तार देने की दिशा में हो रही बातचीत के तहत यह कदम उठाया जाना है। अमेरिका की तरफ से भी कुछ भारतीय उत्पादों को बाजार पहुंच आसान बनाने का फैसला हो सकता है।

माना जा रहा है कि अमेरिका जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस (जीएसपी) के तहत मिलने वाली ड्यूटी राहत फिर से शुरू कर सकता है।विभिन्न मंत्रालयों के साथ चर्चा के लिए जारी कुछ उत्पादों की सूची के मुताबिक अमेरिका से आयात होने वाले मेडिकल, डेयरी और कृषि क्षेत्र के कुछ उत्पादों के अलावा सेब और अखरोट पर आयात शुल्क की दर घटाने का प्रस्ताव है। इसके अतिरिक्त दालों पर आयात शुल्क में कमी का प्रस्ताव भी वाणिज्य मंत्रालय ने किया है, जिस पर कृषि मंत्रालय की राय मांगी गई है।

सूत्रों के मुताबिक अमेरिका से आयात होने वाले फ्रोजन चिकन और बरबॉन व्हिस्की पर भी आयात शुल्क की दर घटाने का प्रस्ताव है। सेब पर आयात शुल्क की दर को 50 से घटाकर 10 फीसद और अखरोट पर सौ फीसद से घटाकर दस फीसद करने का प्रस्ताव है। सोमवार को होने वाली बैठक में सभी मंत्रालय इन प्रस्तावों पर अपना पक्ष रखेंगे। बैठक में कृषि, खाद्य व सार्वजनिक वितरण, स्वास्थ्य व परिवार कल्याण, खाद्य प्रसंस्करण, पेट्रोलियम और गैस तथा कृषि, पशुपालन व डेयरी मंत्रालयों के साथ-साथ राष्ट्रीय फार्मास्यूटिकल मूल्य आयोग के अधिकारी हिस्सा लेंगे।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस