मुंबई । सिंचाई से जुड़ी परियोजनाओं को पूरा करने के लिए महाराष्ट्र सरकार पचास हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का उधार लेने का मन बना रही है। इस बात की जानकारी राज्य के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन ने दी। पत्रकारों से बात करते हुए महाजन ने कहा कि पिछले साल 48 हजार हेक्टेयर भूमि को सींचने के लिए हमारे विभाग ने 7200 करोड़ रुपए आवंटित किए।

उन्होंने कहा कि फिर भी यह 90 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं था। महाजन ने बताया कि हमने प्राथमिकताओं के आधार पर प्रमुख परियोजनाओं को पूरा किया। उन्होंने बताया तकरीबन 75 फीसद काम हो चुका है। बाकी बचे प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए हम 50 हजार करोड़ रुपए का कर्ज लेने की सोच रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हमे यह लोन सस्ती दरों में मिल जाएगा।

कांग्रेस नेता व पूर्व सीएम पृथ्वीराज च्हावण ने कहा कि सरकार सिर्फ उन परियोजनाओं पर ध्यान दे रही है जो पिछले वर्ष शुरू की गई थी। च्हावण ने बताया बाकी बची योजनाओं को सरकार ने को दिया है। उन्होंने एआईबीपी (एक्सीलिरेटेड इरिगेशन बेनिफिट प्रोग्राम) का नाम प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना करने को लेकर सरकार की आलोचना की। पूर्व सीएम ने महाराष्ट्र के लिए सिंचाई का बजट बढ़ाने की मांग की।

Edited By: Sachin Bajpai