नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। केंद्र सरकार ओडिशा के तीन हवाई अड्डों को क्षेत्रीय संपर्क योजना 'उड़ान' में शामिल करने को लेकर सहमत हो गई है। न्यूज एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक नागरिक उड्डयन सचिव प्रदीप सिंह खरोला और ओडिशा के मुख्य सचिव ए के त्रिपाठी के बीच शुक्रवार को हुई बैठक में इस संबंध में निर्णय किया गया। अधिकारियों के मुताबिक उड़ान योजना के अगले चरण में ओडिशा के जयपुर, राउरकेला और उत्केला के हवाई अड्डों को शामिल किया जाएगा। त्रिपाठी ने कहा कि इससे राज्य के सुदूर इलाकों तक कनेक्टिविटी को बेहततर बनाने में मदद मिलेगी। अधिकारियों के मुताबिक 'उड़े देश का आम नागरिक' (उड़ान-4) के तहत इन तीन हवाई अड्डों को विकसित किया जाएगा। 

खरोला ने कहा, ''ओडिशा में हवाई संपर्क को बेहतर बनाने के लिए उठाये जाने वाले कदमों के लिए हमारे बीच बैठक हुई है। हम राज्य सरकार के साथ संपर्क में हैं और जो भी मुद्दे हैं, उन्हें सुलझा लिया जाएगा।''

उल्लेखनीय है कि झारसुगुडा के वीर सुरेंद्र साई (वीएसएस) हवाई अड्डे को उड़ान-3 योजना में शामिल किया गया था। इस वर्ष इस हवाई अड्डे देश के छह शहरों के बीच विमानों की उड़ान शुरू हुई थी। 

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केंद्र ने झारसुगुडा, जयपुर, उत्केला और राउरकेला में इन हवाई अड्डों के विकास के लिए 160 रुपये को मंजूरी दी है।

नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार ने देश के आम लोगों के लिए हवाई यात्रा को मयस्सर करने के लक्ष्य के साथ इस योजना की शुरुआत की थी। इसका लक्ष्य देश के छोटे शहरों को हवाई संपर्क योजना में शामिल करना था। इस योजना की शुरुआत 2017 में की गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 अप्रैल, 2017 को दिल्ली और शिमला एवं कडपा-हैदराबाद-नांदेड़ के बीच पहली उड़ान को हरी झंडी दिखाकर इस योजना की शुरुआत की थी। इस योजना के तीन चरणों के बाद अब चौथे चरण पर काम शुरू हुआ है। 

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस