जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली । रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने दस निजी इकाइयों को लघु बैंक (स्माल बैंक) चलाने की मंजूरी दे दी है। इनमें वाराणसी की उत्कर्ष माइक्रो फाइनेंस और जालंधर का कैपिटल लोकल एरिया बैंक शामिल हैं। इनके अलावा उज्जीवन फाइनेंशियल सर्विसेज और इक्विटास होल्डिंग का भी इस सूची में नाम है। ये छोटे बैंक बुनियादी बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध कराने के साथ-साथ किसानों और सूक्ष्म उद्योगों को बैंकिंग सेवाएं मुहैया कराएंगे। आरबीआइ ने पिछले माह 11 इकाइयों को पेमेंट बैंक खोलने की मंजूरी दी थी। इसी साल केंद्रीय बैंक आइडीएफसी और बंधन को पूर्ण बैंक चलाने की अनुमति दे चुका है।

आरबीआइ की यह सैद्धांतिक अनुमति 18 महीने के लिए वैध होगी। इस अवधि में इन इकाइयों को रिजर्व बैंक के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए बैंक शुरू करना होगा। आरबीआइ आगे चलकर इस दौर की लाइसेंसिंग से सीख लेते हुए उपयुक्त दिशा-निर्देश तैयार कर नियमिति तौर पर लाइसेंस जारी करना चाहता है। रिजर्व बैंक के पास लघु बैंक के 72 आवेदन आए थे। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस साल के बजट भाषण में भी कहा था कि मौजूदा नियमों में उपयुक्त बदलाव के साथ निजी क्षेत्र में बैंकों की मंजूरी के लिए सतत प्रक्रिया स्थापित की जाएगी।

ये काम कर सकेंगे लघु बैंक

लघु बैंक छोटे किसानों, सूक्ष्म उद्यमों, सूक्ष्म और लघु उद्योगों तथा असंगठित क्षेत्र की इकाइयों से जमाएं स्वीकारने और उन्हें उधार देने की सुविधाएं दे सकती हैं। सरकार के वित्तीय समायोजन कार्यक्रम के मद्देनजर ये बैंक छोटे ग्राहकों पर फोकस करेंगे और ग्रामीण क्षेत्र में बैंकिंग सुविधाएं देंगे।

पढ़ेंः माइका को लघु उद्योग का दर्जा मिलना तय

कहीं भी सेवा दे सकेंगे ये बैंक

रिजर्व बैंक के नियमों के मुताबिक लघु बैंक देश में कहीं भी अपनी सेवा दे सकते हैं, क्योंकि इसमें कोई सीमा तय नहीं होती है। हालांकि इसके 50 प्रतिशत लोन पोर्टफोलियो में 25 लाख रुपये तक के लोन होने चाहिए। वैसे इन लघु वित्त बैंकों पर भी नकद आरक्षित अनुपात यानी सीआरआर और वैधानिक तरलता अनुपात (एसएलआर) जैसे मानक लागू होंगे। जहां तक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का सवाल है तो इनके लिए भी निजी बैंकों में एफडीआइ की सीमा लागू हेागी। फिलहाल निजी बैंकों में 74 प्रतिशत तक विदेशी निवेश की अनुमति है।

इन्हें भी मिली है अनुमति

एयू फाइनेंसर जयपुर, दिशा माइक्रोफिन अहमदाबाद, ईएसएएफ माइक्रो फाइनेंस चेन्नई, जनलक्ष्मी फाइनेंशियल बेंगलुरु, आरजीवीएन (नार्थ ईस्ट) माइक्रो फाइनेंस गुवाहाटी, सूर्यादय माइक्रो फाइनेंस मुंबई, उज्जीवन फाइनेंशियल सर्विसेज और इक्विटास होल्डिंग्स।

पढ़ेंः मुद्रा बैंक से मिलेगा 122 हजार करोड़ का ऋण : चुघ

Posted By: Sanjeev Tiwari