जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। टेलीकॉम मंत्रालय ने 5जी स्पेक्ट्रम आवंटन का काम पूरा कर लिया है। टेलीकॉम मंत्री अश्विनी वैष्णव ने गुरुवार को टेलीकॉम कंपनियों से 5जी लांच की तैयारी शुरू करने के लिए कहा। उम्मीद की जा रही है कि अगले महीने एयरटेल और रिलायंस जियो देश में 5जी सेवा शुरू कर सकती है। 5जी सेवा के शुरू होने से टेलीकॉम सेक्टर में नई नौकरियां भी निकलने जा रही है। टीम लीज की रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2022 में जुलाई से दिसंबर के बीच 47 फीसद टेलीकॉम कंपनियों में नई नियुक्तियां की जाएंगी।

दूसरी तरफ टेलीकॉम कंपनियां बिना किसी परेशानी के चंद घंटों में स्पेक्ट्रम आवंटन के पत्र दिए जाने पर सरकार की काफी सराहना कर रही हैं। भारती इंटरप्राइजेज के संस्थापक और चेयरमैन सुनील भारती मित्तल ने सरकार के इस प्रयास को इज ऑफ डूइंग बिजनेस का नायाब नमूना बताते हुए कहा कि बिना किसी परेशानी, बिना दोबारा गए, कुछ घंटों में आवंटन के पत्र दे दिए गए। उन्होंने कहा कि दूरसंचार विभाग के साथ 30 सालों के अपने अनुभव में पहली बार ऐसा महसूस कर रहा हूं।

मित्तल ने आश्चर्य जाहिर करते हुए कहा कि काम करने के तरीके में गजब का बदलाव आया है। यह एक ऐसा बदलाव है जो देश को बदल सकता है और विकसित राष्ट्र बनने के सपने को पूरा कर सकता है। एयरटेल, रिलायंस जियो, अदाणी डाटा नेटवर्क और वोडाफोन आइडिया ने स्पेक्ट्रम आवंटन के लिए अब तक दूरसंचार विभाग को 17,876 करोड़ रुपए का भुगतान किया है। हाल ही में सरकार ने 1.5 लाख करोड़ रुपए के स्पेक्ट्रम की नीलामी की है।

रिलायंस जियो और एयरटेल 5जी ट्रायल का काम पूरा कर चुकी है। इसलिए अगले महीने देश में 5जी सेवा शुरू होने की पूरी उम्मीद है। हालांकि देश भर में 5जी सेवा शुरू होने में दो से तीन साल लग सकते हैं। देश में चार जगहों पर सरकारी की तरफ दिए गए स्पेक्ट्रम की मदद से 5जी का ट्रायल किया गया था ताकि 5जी सेवा शुरू होने में आने वाली दिक्कतों को दूर किया जा सके। इन चार जगहों में दिल्ली एयरपोर्ट, कांडला पोर्ट, बंगलुरू मेट्रो और भोपाल स्मार्ट सिटी शामिल है। 

Edited By: Krishna Bihari Singh