नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आईटी सेक्टर की प्रमुख कंपनी टीसीएस की तीसरी तिमाही (वित्त वर्ष 2018 की) के नतीजे गुरुवार को जारी कर दिए गए। तीसरी तिमाही में टीसीएस का मुनाफा 1.3 फीसदी बढ़कर 6531 करोड़ रुपये हो गया। आपको बता दें कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में टीसीएस का मुनाफा 6,446 करोड़ रुपये रहा था।

वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में टीसीएस की आय 1.2 फीसद बढ़कर 30,904 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। जबकि दूसरी तिमाही में टीसीएस की आय 30,541 करोड़ रुपये रही थी। वहीं तीसरी तिमाही के दौरान टीसीएस की डॉलर आय 1 फीसदी बढ़कर 4,787 करोड़ डॉलर पर पहुंच गई। जबकि वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में टीसीएस की डॉलर आय 4,739 करोड़ डॉलर रही थी।

इसके अलावा तिमाही दर तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में टीसीएस का एबिट मार्जिन 25.1 फीसद से घटकर 25.2 फीसद पर आ गया। यह 7,660.2 करोड़ रुपये से बढ़कर 7,781.3 करोड़ रुपये हो गया है। टीसीएस ने 7 रुपए प्रति शेयर के तीसरे अंतिरिम डिविडेंड की भी घोषणा की है जिसका फायदा शेयरधारकों को 31 जनवरी को होगा।

क्या बोले राजेश गोपीनाथन: टीसीएस के सीईओ एवं एमडी राजेश गोपीनाथन ने कहा, “हमने अपने मार्जिन को बनाए रखा है और हमारा कैश कन्वर्शन सबसे प्रभावशाली हैं। यूरोप ने हमारे विकास का नेतृत्व जारी रखा है और हमने 2.6 फीसद का विकास किया है। हमें उम्मीद है कि यूरोप हमारा दूसरा सबसे बड़ा बाजार होगा। खुदरा क्षेत्र में फिर सुधार दिखा है, हमने अच्छी ग्रोथ हासिल की है और एनर्जी, यूटीलिटीज और रिसोर्सेज में भी ग्रोथ जारी है। 11.1 फीसद का एट्रिशन पिछली तिमाही के मुकाबले क्रमिक रूप से कम है। इस तिमाही हमने करीब 1600 लोगों को जोड़ा है और प्रतिभा के विकास पर ध्यान केंद्रित किया है। हमने ग्राहकों के अतिरिक्त आंकड़े देखे हैं और 11 बड़े सौदों की घोषणा की है।”

Posted By: Praveen Dwivedi