नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा है कि उन्होंने पर्सनल इनकम टैक्स को कम करने के लिए सांसदों से बात की है और उनके सुझाव ले रही हैं। उन्होंने कहा कि इसमें कटौती का निर्णय इसके फायदों को ध्यान में रखते हुए ही लिया जाएगा, ना सिर्फ इसलिए कि पहले सरकार ने कॉरपोरेट टैक्स में कटौती की है।

पर्सनल इनकम टैक्स की दरों के बारे में वित्त मंत्री का बयान उस प्रश्न के जवाब में आया है, जो टीएमसी के नेता सौगत रॉय द्वारा लोकसभा में कार्रवाही के दौरान पूछा गया था।

वित्त मंत्री ने कहा, 'विकसित देशों, विकासशील देशों और उभरती अर्थव्यवस्थाओं की तुलना करना और फिर यह कहना कि उन्होंने आयकर की दरें घटाई है तो आप भी घटाएं, यह बहुत अलग-अलग चीजें हैं।' उन्होंने आगे कहा कि सरकार ने इंडिविजुअल करदाताओं को समय-समय पर राहत दी है और कई तरह की छूट की भी पेशकश की है।

सीतारमण ने कहा, 'अब क्योंकि हम देश में और निवेश चाहते हैं, हमने एक प्रकार की समता लाने के लिए कंपनीज एक्ट के तहत इसे सभी कंपनियों को दिया है और अगर पर्सनल इनकम टैक्स की बात करें, तो इसकी दरों की कटौती के बारे में हम सिर्फ इसलिए नहीं सोचेंगे, क्योंकि हमने कॉरपोरेट टैक्स में ऐसा किया है।' 

वित्त मंत्री ने कहा कि वे उन सभी का सम्मान करती हैं, जो अपनी आजीविका के लिए कमा रहे हैं, टैक्स भर रहे हैं और अपने बिजनेस के साथ ही परिवार का भी ध्यान रख रहे हैं। इसलिए पर्सनल इनकम टैक्स उसके फायदों को ध्यान में रखते हुए ही लिया जाएगा।

Posted By: Pawan Jayaswal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप