नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। BSE Sensex की शुक्रवार को शुरुआत अच्‍छी रही। Sensex 52,792 अंक पर खुला। हालांकि बाद में सूचकांक नीचे आ गया। खबर लिखे जाने तक यह 7 अंक नीचे 52,645.68 अंक पर कारोबार कर रहा था। Techm, H‍cltech समेत दो दर्जन शेयरों में तेजी देखी गई। वहीं Nifty 50 भी 12 अंक नीचे 15766 अंक पर कारोबार कर रहा था।

टाटा स्टील, भारतीय स्टेट बैंक में तेजी

इससे पहले गुरुवार को शेयर बाजारों में पिछले 3 कारोबारी सत्रों से जारी गिरावट पर विराम लगा था और सूचकांक बीएसई सेंसेक्स 209 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ। वैश्विक बाजारों में सकारात्मक रुख के बीच टाटा स्टील, भारतीय स्टेट बैंक और रिलायंस इंडस्ट्रीज में तेजी से बाजार में मजबूती आयी।

अमेरिकी फेडरल रिजर्व के नीतिगत रुख नरम रखने की बात दोहराये जाने से वैश्विक बाजारों में तेजी आयी, जिसका सकारात्मक असर घरेलू शेयर बाजार पर भी पड़ा।

लिवाली से बाजार को और तेजी मिली

कारोबारियों के अनुसार डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती और कुछ चुनिंदा प्रमुख शेयरों में सौदों को पूरा करने के लिये की गयी लिवाली से बाजार को और गति मिली। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 209.36 अंक यानी 0.40 प्रतिशत की बढ़त के साथ 52,653.07 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, एनएसई निफ्टी 69.05 अंक यानी 0.44 प्रतिशत मजबूत होकर 15,778.45 अंक पर बंद हुआ।

टाटा स्टील सर्वाधिक 6.87 प्रतिशत लाभ में

सेंसेक्स के शेयरों में टाटा स्टील सर्वाधिक 6.87 प्रतिशत लाभ में रहा। इसके अलावा, बजाज फिनसर्व, एसबीआई, एचसीएल टेक, सन फार्मा, बजाज फाइनेंस और रिलायंस इंडस्ट्रीज में अच्छी तेजी रही। दूसरी तरफ, मारुति, पावरग्रिड, बजाज ऑटो और आईटीसी समेत अन्य शेयरों में 2.21 प्रतिशत तक की गिरावट रही।

आईटी शेयरों में मजबूत लिवाली

रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति प्रमुख विनोद मोदी ने कहा कि सकारात्मक वैश्विक रुख और धातु तथा आईटी शेयरों में मजबूत लिवाली से बाजार को समर्थन मिला। इसके अलावा कुछ चुनिंदा प्रमुख शेयरों में सौदों को पूरा करने के लिये की गयी लिवाली से भी बाजार में तेजी आयी।

उन्होंने कहा कि फेडरल रिजर्व के मौद्रिक नीति रुख नरम बनाये रखने और मासिक बांड खरीद कार्यक्रम के निकट और मध्यम अवधि में बदलाव की बहुत कम संभावना भारत समेत उभरते बाजारों के लिये अच्छी साबित हुई। मोदी के अनुसार हाल की गिरावट के बाद मझोली और छोटी कंपनियों के शेयरों में लिवाली की गयी।

Edited By: Ashish Deep