नई दिल्ली, पीटीआइ। इस सप्ताह शेयर बाजारों की दिशा मुख्य रूप से बड़े आर्थिक आंकड़ों, प्रमुख कंपनियों के तिमाही नतीजों तथा भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) की समीक्षा बैठक के नतीजों पर निर्भर करेगी। जानकारों के अनुसार वैश्विक रुख तथा टीकाकरण से भी बाजार को दिशा मिलेगी। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि सोमवार से शुरू हो रहे सप्ताह के दौरान आरबीआइ अपनी मौद्रिक नीति की समीक्षा बैठक करेगा। इसके साथ ही मैन्यूफैक्चरिंग व सर्विस सेक्टर के पीएमआइ आंकड़े भी आने हैं, जो बाजार को राह दिखाएंगे।

इस सप्ताह एचडीएफसी, पीएनबी, अदाणी पो‌र्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन, बैक ऑफ इंडिया, भारती एयरटेल, एसबीआइ और महिंद्रा एंड महिंद्रा के तिमाही नतीजे आने हैं। इन सभी नतीजों का असर शेयर बाजार पर दिखेगा। सैमको सिक्युरिटीज की इक्विटी रिसर्च प्रमुख निराली शाह ने कहा कि इन सबके अलावा आटो सेक्टर की मासिक बिक्री आंकड़ों पर भी निवेशकों की नजर रहेगी और सेक्टर व स्टाक-केंद्रित गतिविधियां दिखेंगी। मानसून की चाल पर भी शेयर बाजारों की प्रतिक्रिया दिख सकती है। डॉलर के मुकाबले रुपये तथा कच्चे तेल में राहत से बाजार को फायदा दिखने की उम्मीद है।

छह कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 96,642 करोड़ रुपये घटा

पिछले सप्ताह बीएसई की शीर्ष 10 में से छह कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में संयुक्त रूप से 96,642.51 करोड़ रुपये की गिरावट देखी गई। इनमें सबसे ज्यादा कमी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआइएल) के बाजार पूंजीकरण में हुई। टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस), एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनीलिवर लिमिटेड (एचयूएल), एचडीएफसी तथा कोटक महिंद्रा बैंक का भी पूंजीकरण घटा। इन्फोसिस, आइसीआइसीआइ बैंक, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) और बजाज फाइनेंस अपना पूंजीकरण बढ़ाने में कामयाब रहे।

पिछले सप्ताह आरआइएल का बाजार पूंजीकरण 44,249.32 करोड़ रुपये गिरकर 12,90,330.25 करोड़ रुपये रह गया। टीसीएस के पूंजीकरण में 16,479.28 करोड़ रुपये की गिरावट आई और सप्ताह के आखिर में यह 11,71,674.52 करोड़ रुपये रह गया। कोटक महिंद्रा बैंक के पूंजीकरण में 13,511.93 करोड़ रुपये, एचडीएफसी बैंक में 8,653.09 करोड़ रुपये, एचडीएफसी में 7,827.92 करोड़ रुपये और एचयूएल में 5,920.97 करोड़ रुपये की गिरावट आई। 

Edited By: Ankit Kumar