नई दिल्ली, प्रेट्र। चीन, जापान और कोरिया सहित छह देशों से कुछ चुनिंदा स्टील उत्पादों के आयात पर डंपिंगरोधी शुल्क लगने की उम्मीद है। यह शुल्क 557 डॉलर (लगभग 37,320 रुपये) प्रति टन तक हो सकता है। सस्ते आयात की बाढ़ से घरेलू स्टील उद्योग को संरक्षण देने के लिए यह कदम उठाया जाएगा।

वाणिज्य मंत्रालय के अधीन डंपिंगरोधी एवं सहायक शुल्क महानिदेशालय (डीजीएडी) ने शुरुआती जांच में पाया है कि चीन, जापान, कोरिया, रूस, ब्राजील और इंडोनेशिया से भारत में एलॉय अथवा नॉन-एलॉय स्टील के हॉट-रोल्ड फ्लैट प्रोडक्ट्स सामान्य से कम कीमत पर निर्यात किए गए हैं। इसे देखते हुए डीजीएडी ने इन उत्पादों के आयात पर प्रोविजनल एंटी-डंपिंग ड्यूटी लगाने की सिफारिश की है।

शुल्क का दायरा 474-557 डॉलर प्रति टन रखा गया है।एस्सार स्टील इंडिया, स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया और जेएसडब्ल्यू ने संयुक्त रूप से डीजीएडी के पास इस संबंध में शिकायत की थी। उन्होंने सस्ते आयात से घरेलू उद्योग को नुकसान होने का जिक्र करते हुए एंटी-डंपिंग ड्यूटी लगाने का अनुरोध किया था। डीजीएडी ड्यूटी की सिफारिश करता है। जबकि वित्त मंत्रालय इसे लगाता है।

स्टील उद्योग की सेहत एमआइपी के विस्तार पर निर्भर

सौ अरब डॉलर के घरेलू स्टील उद्योग की सेहत इस बात पर निर्भर करेगी कि इस महीने के आगे न्यूनतम निर्यात मूल्य (एमआइपी) को जारी रखा जाएगा या नहीं। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी इकरा ने यह बात कही है। घरेलू स्टील उद्योग एमआइपी को आगे बढ़ाने की मांग कर रहा है।

कन्हैया को महाराष्ट्र विधान परिषद में नहीं मिला प्रवेश

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस