नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। मानसून की प्रगति, अमेरिका के केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की मौद्रिक नीति समीक्षा और अंतरराष्ट्रीय तनाव जैसे मसले इस सप्ताह शेयर बाजार को प्रभावित करेंगे। विश्लेषकों के मुताबिक सरकार द्वारा 29 अमेरिकी उत्पादों पर जवाबी शुल्क लगाने से संबंधित घटनाक्रम पर भी निवेशक नजर टिकाए रहेंगे।

ये भी पढ़ें: कार लोन चुकाने के बाद उठाएं ये 5 कदम, तभी कार पर होगा आपका पूरा अधिकार

अमेरिका द्वारा कुछ खास स्टील और अल्यूमिनियम उत्पादों पर शुल्क बढ़ाने के बाद भारत ने 21 जून 2018 को अमेरिकी उत्पादों पर जवाबी शुल्क लगाने का फैसला किया था। हालांकि इसे लागू करने की समय सीमा को सरकार ने कई बार आगे बढ़ाया, क्योंकि उसे उम्मीद थी कि इस मुद्दे पर कोई हल निकल जाएगा।

रेलिगेयर ब्रोकिंग के रिटेल डिस्ट्रीब्यूशन के प्रेसिडेंट जयंत मांगलिक ने कहा कि बाजार इन दिनों विदेशी संकेतों पर प्रतिक्रिया कर रहा है। इस स्थिति में निकट अवधि में बदलाव नहीं होगा, क्योंकि घरेलू स्तर पर बाजार को प्रभावित करने वाले बड़े कारकों का अभाव है। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि ऑयल टैंकर पर हमले को लेकर अमेरिका और ईरान के बीच आरोप-प्रत्यारोप, अमेरिका व चीन की व्यापार वार्ता से संबंधित घटनाक्रम, 19 जून को फेडरल रिजर्व की मौद्रिक नीति से संबंधित घोषणा और मानसून की प्रगति पर निवेशकों का ध्यान लगा रहेगा।

ये भी पढ़ें: कैसे खरीदें बेहतर म्युचुअल फंड और कैसे मिलेगा अधिक फायदा, यहां जानें सबकुछ

पिछले सप्ताह ओमान की खाड़ी में दो ऑयल टैंकर्स पर हुए हमले के बाद मध्यपूर्व में तनाव बढ़ गया और इसका असर दुनियाभर के शेयर बाजारों पर दिखा। विश्लेषकों ने कहा कि कच्चे तेल की कीमत, डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल और विदेशी पूंजी की दिशा भी बाजार के लिए महत्वपूर्ण रहेगी। कैपिटलएम के रिसर्च प्रमुख रोमेश तिवारी ने कहा कि कर्ज भुगतान को लेकर वित्तीय क्षेत्र की कंपनियों से आ रही नकारात्मक खबरें भी निवेशकों को बेचैन कर रही हैं। ये बाजार में गिरावट का एक बड़ा कारण बन सकती हैं।

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी इक्रा ने कहा कि पिछली कुछ तिमाहियों के आर्थिक संकेतक उत्साहवर्धक नहीं हैं, फिर भी चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में फिर से राजग की सरकार बनना अर्थव्यवस्था के कुछ प्रमुख क्षेत्रों के लिए शुभ दिख रहा है। पिछले सप्ताह बाजार में गिरावट रही : पिछले सप्ताह उतार-चढ़ाव भरे कारोबार के बीच बाजार में गिरावट रही। दो कारोबारी सत्र में बाजार में तेजी रही, दो अन्य सत्रों में गिरावट दर्ज की गई, जबकि एक सत्र में बाजार सपाट स्तर पर बंद रहे। सप्ताहभर के कारोबार में बीएसई के सेंसेक्स में कुल 163.83 अंकों और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के निफ्टी में कुल 47.35 अंकों की गिरावट रही। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sajan Chauhan