नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क । सोमवार को शुरुआती सौदों में BSE का सेंसेक्स 470 अंक चढ़कर 60,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर कारोबार कर रहा था। एक सकारात्मक शुरुआत के साथ 30-शेयर वाला बेंचमार्क 60,242 के शुरुआती उच्च स्तर तक पहुंच गया था। इसके बाद इसमें कुछ गिरावट आई। हमने खबर लिखते हुए इसे आखिरी बार 60,077.67 के स्तर पर देखा था, जो 333.02 अंक या 0.56 प्रतिशत ज्यादा था। इसी तरह, NSE निफ्टी 126.95 अंक या 0.71 प्रतिशत बढ़कर 17,939.65 पर कारोबार कर रहा था।

सेंसेक्स मुख्य रूप से एफएमसीजी, ऑटो, आईटी और वित्तीय शेयरों द्वारा संचालित था। आईटीसी, मारुति, टीसीएस, कोटक बैंक और आईसीआईसीआई बैंक प्रमुख लाभ में रहे। सेंसेक्स के घटकों में से 21 शेयर हरे निशान में कारोबार कर रहे थे।

विश्लेषकों का कहना है कि इंफोसिस और टीसीएस सहित प्रमुखों आईटी कंपनियों की तिमाही कमाई और सप्ताह के दौरान जारी होने वाले मैक्रोइकॉनॉमिक डेटा, इक्विटी बाजार के रुझानों असर डाल सकते हैं। इसके साथ ही, विश्लेषकों का यह भी कहना है कि इस बीच, बाजार सहभागी वैश्विक और घरेलू, दोनों मोर्चों पर बढ़ते कोविड मामलों के विभिन्न घटनाक्रमों और समाचारों पर भी नजर रखेंगे।

रेलीगेर ब्रोकिंग के रिसर्च विभाग के वीपी अजीत मिश्रा ने कहा, "इंफोसिस, टीसीएस, विप्रो, एचसीएल टेक और माइंडट्री जैसी बड़ी आईटी कंपनियां अपने नंबर्स की घोषणा करेंगी। इसके अलावा, बैंकिंग हैवीवेट एचडीएफसी बैंक का परिणाम भी निर्धारित है। मैक्रोइकॉनॉमिक मोर्चे पर, प्रतिभागियों की नजर आईआईपी, सीपीआई मुद्रास्फीति और डब्ल्यूपीआई मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर भी होगी।"

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, "यह सप्ताह आईटी क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए शुरुआती आय परिणामों के रुझानों से प्रेरित होगा। दिसंबर के मुद्रास्फीति डेटा और नवंबर के विनिर्माण तथा औद्योगिक उत्पादन डेटा जैसे मैक्रोइकॉनॉमिक डेटा पॉइंट जारी करने में भी यह सप्ताह व्यस्त रहेगा है।"

सैमको सिक्योरिटीज के इक्विटी रिसर्च प्रमुख येशा शाह ने कहा, "Q3FY22 कमाई सीजन पहले लार्ज-कैप आईटी कंपनियों की रिपोर्टिंग के साथ शुरू होगा। मैक्रोइकॉनॉमिक मोर्चे पर, निवेशक घरेलू मुद्रास्फीति दर के साथ-साथ संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन की मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर कड़ी नजर रखेंगे।"

Edited By: Lakshya Kumar