नई दिल्ली, पीटीआइ। देश का सबसे बड़ा बैंक SBI कोविड-19 की वजह से पैदा हुई नई चुनौतियों के साथ सामंजस्य बिठाने के लिए वर्क फ्रॉम होम से जुड़ी अपनी मौजूदा नीति में बदलाव पर काम कर है। भारतीय स्टेट बैंक की वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि आने वाले समय में बैंक डिजिटल टेक्नोलॉजी को त्वरित तरीके से अपनाएगा। साथ ही बैंक जोखिम और कारोबार से जुड़े नियमों का आकलन भी करेगा। उल्लेखनीय है कि कोविड-19 महामारी की वजह से यह पूरा साल काफी चुनौतीपूर्ण रहने वाला है। इसी को देखते हुए बैंक वर्क फ्रॉम होम से जुड़ी अपनी मौजूदा नीति को अपग्रेड करके वर्क फ्रॉम एनीव्हेयर (Work From Anywhere) करने की दिशा में काम कर रहा है। 

(यह भी पढ़ेंः दुनिया के 10 सबसे अमीर लोगों में शामिल हुए रिलायंस के मुकेश अंबानी, जानिए कितनी है कुल संपत्ति)  

बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने वार्षिक रिपोर्ट में कहा है, ''एडमिनिस्ट्रेटिव काम को सुदूर स्थान से करने के लिए प्रोडक्टिविटी टूल्स और टेक्नोलॉजी मौजूद हैं।' 

बैंक का कहना है कि 'Work From Anywhere' से ऑफिस आने-जाने का समय बच जाता है। इससे ग्राहकों को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने में मदद मिलती है। साथ ही वर्क लाइफ बैलेंस भी बेहतर होता है। 

बैंक ने कहा, ''बैंक के 19 विदेश कार्यालयों में WFA को लागू कर दिया है और जल्द ही घरेलू ऑपरेशन्स में भी इस व्यवस्था को लागू किया जाएगा। इससे बैंक की परिचालन लागत में कमी आने की उम्मीद है। साथ ही कर्मचारियों को काम करने के लिए अधिक प्रेरणा मिलेगी और उनकी उत्पादकता बेहतर होगी।'' 

(यह भी पढ़ेंः Aadhaar Card खो गया है तो मत हों परेशान, ऐसे पा सकते हैं ज्यादा सुविधाओं वाला नया कार्ड)  

वार्षिक रपट में कहा गया है कि देश की अर्थव्यवस्था और वित्तीय बाजारों पर कोविड-19 महामारी का नाटकीय और गंभीर परिणाम देखने को मिला है। हालांकि, कोविड-19 महामारी की वजह से बैंकों के लिए अवसर के नए द्वार खुल गए हैं। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक सप्लाई चेन के नए सिरे से व्यवस्थित होने की वजह से भारत के पास खुद को मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में विकसित करने का मौका है। ऐसे में बैंकों के समक्ष भी अपने कारोबार के विस्तार का विकल्प मौजूद होगा। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस