नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने अंतत: सऊदी अरामको के आईपीओ लॉन्चिंग के लिए अनुमति दे दी है। इसके लिए लोकल इन्वेस्टर्स से भी पर्याप्त सपोर्ट मिलने की उम्मीद है, ताकी अच्छी-खासी संख्या में शेयरों की बिक्री हो सके। न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग के अनुसार, क्राउन प्रिंस ने यह निर्णय शुक्रवार को एक बैठक के दौरान लिया, जिसकी वे अध्यक्षता कर रहे थे। उम्मीद की जा रही है कि इसकी रविवार तक आधिकारिक घोषणा हो जाएगी। ब्लूमबर्ग को यह जानकारी मामले से जुड़े एक सूत्र द्वारा दी गई है।

चीन की कंपनी अलीबाबा का तोड़ देगी रिकॉर्ड

साल 1970 में कपनी के राष्ट्रीयकरण के बाद यह पूरी सऊदी ऑयल इंडस्ट्री के लिए सबसे बड़ा बदलाव होगा। सऊदी अरब के स्वामित्व वाली इस तेल कंपनी का आईपीओ दुनिया का सबसे बड़ा आईपीओ होगा। सऊदी सरकार कंपनी की 5 फीसद हिस्सेदारी बेचना चाहती है। कंपनी के शेयरों की कीमत 6.7 लाख करोड़ के करीब रहने का अनुमान है। इससे सऊदी अरामको साल 2014 के अलीबाबा के 1.6 लाख करोड़ के आईपीओ का रिकॉर्ड तोड़ देगी। सऊदी अरामको के शेयरों की बिक्री से कंपनी की वैल्यू दो ट्रिलियन डॉलर के करीब पहुंच जाएगी। सऊदी अरब का उद्देश्य इस आईपीओ के माध्यम से मिलने वाले पैसे को पब्लिक इन्वेस्टमेंट फंड में डालना है।

बढ़ेगी तेल की कीमतें

सऊदी अरामको का आईपीओ मार्केट में आने से तेल की कीमतों में बढ़ोत्तरी होने की संभावना है। आईपीओ लॉन्च होने की संभावना से ही शनिवार को भी क्रूड ऑयल की कीमत में बड़ा उछाल दर्ज किया गया है। शनिवार सुबह क्रूड ऑयल WTI का फ्यूचर भाव 3.67 फीसद की तेजी के साथ 56.17 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था और ब्रेंट ऑयल का फ्यूचर भाव 3.37 फीसद की तेजी के साथ 61.63 डॉ़लर प्रति बैरल पर चल रहा था। क्रूड ऑयल की कीमतों में तेजी का असर आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल के दाम पर भी पड़ सकता है। वहीं, क्रूड ऑयल का दाम बढ़ने से सऊदी अरामको के शेयर में तेजी आएगी।

Posted By: Pawan Jayaswal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस