नई दिल्ली, पीटीआइ। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड का 53,124 करोड़ रुपये का राइट्स इश्यू किसी गैर-वित्तीय जारीकर्ता द्वारा जारी किया गया पिछले दस सालों का दुनिया का सबसे बड़ा राइट्स इश्यू है। एक विश्लेषक द्वारा यह बात कही गई है। ऑयल से लेकर टेलीकॉम सेक्टर तक की दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड का राइट्स इश्यू 20 मई को शेयरधारकों के सब्सक्रिप्शन के लिए खुला था। यह राइट्स इश्यू बुधवार को बंद होगा। Dealogic के आंकड़ों के अनुसार, यह इश्यू किसी गैर-वित्तीय जारीकर्ता द्वारा जारी पिछले 10 वर्षों में दुनिया का सबसे बड़ा इश्यू है।

यह भी पढ़ें: जानिए FD पर कौन-कौन से बैंक दे रहे हैं ज्‍यादा ब्याज, निवेश करने से पहले इन बाताें पर करें गौर

30 फीसद ओवरसब्सक्राइब हुआ राइट्स इश्यू

शेयर बाजार से प्राप्त जानकारी के अनुसार, रिलायंस इंडस्ट्रीज का मेगा राइट इश्यू मंगलवार को करीब 30 फीसदी ओवर सब्सक्राइब हो गया है। आरआईएल ने अपने राइट्स इश्यू में शेयरधारकों को 42.26 करोड़ शेयर ऑफर किए थे। राइट्स इश्यू में दो जून तक 54.9 करोड़ शेयरों के लिए बिड मिल चुकी है। अर्थात रिलायंस का यह राइट इश्यू 1.3 गुना सब्सक्राइब हो चुका है। बुधवार को यह राइट इश्यू बंद हो रहा है। अर्थात निवेशकों के पास राइट्स इश्यू में शेयर खरीदने का बुधवार को आखिरी मौका है।

1:15 के अनुपात में है राइट्स इश्यू

अरबपति मुकेश अंबानी की कंपनी ने 30 अप्रैल को राइट्स इश्यू के जरिए 53,125 करोड़ रुपये का फंड जुटाने की घोषणा की थी। यह राइट्स इश्यू 1:15 के अनुपात में हैं। अर्थात कंपनी के शेयरधारक राइट्स इश्यू में 15 शेयरों पर एक शेयर खरीद सकते हैं। आरआईएल का राइट्स इश्यू भारत का सबसे बड़ा राइट्स इश्यू है और करीब 30 वर्षों में कंपनी का पहला राइट्स इश्यू है।

एक शेयर की कीमत 1,257 रुपये

राइट्स इश्यू में एक शेयर की कीमत 1,257 रुपये है। जबकि सोमवार को कंपनी का शेयर बीएसई पर 1,536.10 रुपये पर बंद हुआ है। आरआईएल के इस राइट्स इश्यू में कंपनी के वे ही शेयरधारक सब्सक्राइब कर सकेंगे, जिन्होंने 13 मई से पहले कंपनी के शेयर खरीदें हैं और 14 मई तक भी उनके पास कंपनी के शेयर थे। इस राइट्स इश्यू में शेयर खरीदने के लिए शेयरधारको को इस समय केवल 25 फीसद राशि ही देनी होगी। शेयरधारकों को इसके बाद 25 फीसद राशि मई 2021 में और बाकी 50 फीसद राशि नवंबर 2021 में देनी होगी।

यह भी पढ़ें: GST Council अपनी बैठक में करेगी जीएसटी रिटर्न में विलंब शुल्क को माफ करने के मुद्दे पर चर्चा

जल्द कर्ज मुक्त होना चाहती है आरआईएल

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड जल्द कर्ज मुक्त होना चाहती है। मुकेश अंबानी अपने प्रमुख कारोबारों में रणनीतिक निवेश लाकर और राइट्स इश्यू के जरिए रिलांयस को जल्द से जल्द कर्ज मुक्त बनाना चाहते हैं। एक्सपर्ट का मानना है कि कंपनी इस साल के आखिर तक कर्ज मुक्त हो सकती है। गौरतलब है कि पिछले दिनों अंबानी जियो प्लैटफॉर्म्स में कई जगहों से निवेश लेकर आए हैं। जियो प्लैटफॉर्म्स के इन निवेशकों में फेसबुक, सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, जनरल अटलांटिक और केकेआर शामिल हैं। आरआईएल पर 1.61 लाख करोड़ रुपये का कर्ज है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021