नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। भारतीय रिजर्व बैंक ने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगा दिया है। केंद्रीय बैंक ने यह जुर्माना यूनियन बैंक की ओर से समय पर फ्रॉड पता लगाने और रिपोर्ट करने में विफलता के चलते लगाया है।

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने शुक्रवार को नियामकीय फाइलिंग में कहा, “यह सूचित किया जाता है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने 10 मिलियन (एक करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाया है। जुर्माने की वजह धोखाधड़ी को पकड़ने और सूचित करने में देरी है। आरबीआई ने यह जुर्माना बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट के तहत लगाया है।”

एक्ट के तहत आरबीआई ने यूनियन बैंक को 15 जनवरी, 2018 को शो कॉज नोटिस जारी किया था। इसमें आरबीआई ने बैंक से जुर्माना न लगाने की वजह पूछी थी। इसके बाद बैंक आरबीआई को एक फरवरी को जवाब दिया था। इसके बाद आरबीआई के एग्जिक्युटिव डायरेक्टर्स की कमेटी के समक्ष 14 अप्रैल को बैंक ने निजी सुनवाई (पर्सनल हियरिंग) में मौखिक निवेदन किया था।

यूनियन बैंक ने कहा, “बैंक ने पर्सनल हियरिंग में जवाब और मौखिक निवेदन के साथ ही जो अतिरिक्त दस्तावेज जमा किये थे वे आरबीआई की ओर से अपर्याप्त पाये गये हैं जिस वजह से एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है।”

बैंक ने यह भी बताया है कि आरबीआई की ओर जुर्माने के बारे में उसे 6 सितंबर को पता चला है। बैंक ने बताया है कि उसने इस तरह के मामलों से बचने के लिए एक्शन प्लान तैयार कर लागू कर लिया है।

बीएसई पर यूनियन बैंक के शेयर्स 0.48 फीसद की बढ़त के साथ 83.50 के स्तर पर कारोबार कर बंद हुए है। इसका दिन का उच्चतम स्तर 84 और निम्नतम 82.20 का स्तर रहा है। वहीं, 52 हफ्तों का उच्चतम 196.05 और निम्नतम 73.90 का स्तर रहा है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस