नई दिल्ली, पीटीआइ। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अपने उस बयान को वापस ले लिया है जिसमें उन्होंने आर्थिक मंदी को नकारने के लिए तीन फिल्मों के एक दिन में 120 करोड़ रुपये कमाने का हवाला दिया था। प्रसाद ने मुंबई में शनिवार को कहा था कि जब फिल्में इतना अच्छा कारोबार कर रही हैं तो मंदी कहां है? उन्हें इस बयान पर आलोचना का सामना करना पड़ा। रविवार को एक बयान में प्रसाद ने कहा कि उनके बयान के एक हिस्से को पूरी तरह परिप्रेक्ष्य से बाहर प्रस्तुत किया गया। उन्होंने कहा कि मैं एक संवेदनशील व्यक्ति हूं, इसलिए अपने बयान को वापस लेता हूं।

प्रसाद ने शनिवार को ऊंची बेरोजगारी दर को लेकर राष्ट्रीय सैंपल सर्वे की रिपोर्ट को भी खारिज किया था। प्रसाद ने कहा, कल मैंने तीन फिल्मों के एक दिन में 120 करोड़ रुपये कमाने के बारे में जो कुछ कहा था वह तथ्यात्मक रूप से एकदम सही है। चूंकि मैं मुंबई यानी भारत में फिल्मों की राजधानी में था इसलिए मैंने अपनी बात को स्पष्ट करने के लिए फिल्म का सहारा लिया। हमें अपने फिल्म उद्योग पर गर्व है, जिसने लाखों लोगों को रोजगार देने का काम किया है। प्रसाद के मुताबिक उन्होंने सरकार द्वारा उठाए गए उन कदमों के बारे में विस्तार से जानकारी दी थी जो लोगों की मदद करने वाले हैं और जिनसे हमारी अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी।

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने हमेशा लोगों की संवेदनशीलता का ख्याल रखा है। सोशल मीडिया में मेरे बयान का पूरा वीडियो उपलब्ध है। फिर भी मुझे खेद है कि मेरे बयान के एक हिस्से को तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया गया। उन्होंने कहा कि कुछ लोग बेरोजगारी के परिदृश्य को लेकर लोगों को गुमराह करने का काम कर रहे हैं।

गौरतलब है कि रविशंकर प्रसाद के बयान पर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, प्रियंका ने कहा, 'ये दुख की बात है कि जब देश में लाखों लोग नौकरियां खो रहे हैं, उनके पैसे पर बैंक कुंडली मारकर बैठे हैं, सरकार को जनता के दुख की फिक्र नहीं है। उन्हें फिल्मों के मुनाफे की परवाह है। मंत्री जी फिल्मी दुनिया से बाहर निकलिये। हकीकत से मुंह मत चुराइये।'

 

Posted By: Nitesh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप