नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। नीरव मोदी के बैंक फ्रॉड ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की साख को खतरे में डाल दिया है। देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पीएनबी में करीब 11,400 करोड़ रुपए का घोटाला सामने आने के कुछ दिन बाद ही इस मामले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी ने बैंक को चिट्ठी लिख लोन न चुकाने पर अपनी असमर्थता भी जता दी है।

फिच और मूडीज ने दिए रेटिंग घटाने के संकेत: 11,400 करोड़ का बैंक घोटाला सामने आने के बाद अब रेटिंग एजेंसिया भी हरकत में आ गई हैं। फिच ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को ‘रेटिंग वाच निगेटिव’ श्रेणी में रख दिया। इसे पीएनबी की रेटिंग घटाने का संकेत माना जा सकता है। फिच ने कहा, “फिच रेटिंग ने पीएनबी में बड़े घोटाले का खुलासा होने के बाद उसे व्यावहारिकता रेटिंग की ‘रेटिंग वाच निगेटिव’ श्रेणी में रख दिया है।” वहीं प्रमुख क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भी बैंक की रेटिंग में कटौती के लिए पीएनबी को समीक्षा में डाल दिया है।

क्रिसिल ने भी पीएनबी की रेटिंग को निगरानी पर रखा: वहीं रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने भी पंजाब नेशनल बैंक की रेटिंग को निगरानी पर रख दिया है। 11,400 करोड़ रुपए के इस बैंक घोटाले को बैंक की मुंबई स्थित एक ब्रांच से अंजाम दिया गया था। एजेंसी ने कहा, “हमने पीएनबी के डेट इंस्ट्रूमेंट्स पर हमारी रेटिंग्स को इसमें सामने आ रही जानकारियों के साथ साथ निगरानी पर रखा है। 14 फरवरी को पीएनबी की ब्रैडी हाउस शाखा में कुछ धोखाधड़ी और अनाधिकृत लेनदेन का मामला सामने आया था।”

Posted By: Praveen Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस