नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। दूरसंचार नियामक प्राधिकरण ट्राई ने इमारतों के भीतर सभी दूरसंचार सेवा प्रदाताओं (टीएसपी) को समान अवसर दिए जाने संबंधी अपनी सिफारिशों को उचित ठहराते हुए दूरसंचार विभाग की आपत्तियों को खारिज कर दिया है। विशिष्ट अनुबंधों पर पाबंदी की पुन: वकालत करते हुए ट्राई ने टीएसपी के लाइसेंस एग्रीमेंट में उपयुक्त उपबंध जोड़ने का सुझाव दिया है।

ट्राई का कहना है कि 80 फीसद मोबाइल ट्रैफिक इमारतों के भीतर होता है। भविष्य में 5जी आने पर इसमें और बढ़ोतरी होगी। ऐसे में विशिष्ट अनुबंध की आड़ में किसी टीएसपी को दूरसंचार सेवाओं पर कब्जा जमाने और ग्राहकों को अपनी पसंद के टीएसपी के चुनाव से वंचित करने आजादी होनी चाहिए।

कॉमर्शियल इमारतों एवं सार्वजनिक स्थलों के भीतर दूरसंचार सेवाओं के मामले में सभी टीएसपी को समान अवसर दिए जाने के संबंध में ट्राई की सिफारिशें 20 जनवरी, 2017 को आई थीं। इस पर दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने 22 नवंबर, 2017 को आपत्ति जताते हुए ट्राई से पुनर्विचार का अनुरोध किया था।

डीओटी को दिए जवाब में ट्राई ने कहा है कि दूरसंचार सेवा चाहे फिक्स्ड लाइन की हो अथवा ब्राडॅबैंड की, इमारतों में प्रवेश के बगैर दूरसंचार केबल और उपकरण लगाना किसी भी टीएसपी के लिए संभव नहीं है। परंतु एयरपोर्ट, होटल, मल्टीप्लेक्स जैसी कॉमर्शियल एवं सार्वजनिक इमारतों में संचार सेवाएं देते वक्त अक्सर टीएसपी को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इसका कारण ये है कि कुछ टीएसपी भवन मालिकों के साथ विशिष्ट अनुबंध कर दूसरी टीएसपी के लिए अवरोध खड़े करने का प्रयास करते हैं। कुछ मामलों में स्वयं भवन मालिक टीएसपी पर विशिष्ट अनुबंध करने तथा अत्यधिक शुल्क देने का दबाव डालते हैं। ये दोनों ही स्थितियां ग्राहकों के लिए हितकर नहीं हैं।

ट्राई के अनुसार घर हो या दफ्तर ग्राहक को उत्कृष्ट दूरसंचार सेवा प्राप्त करने और अपनी पसंद के टीएसपी का चुनाव करने का अधिकार है। भवन का मालिक इसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकता है। ट्राई के अनुसार टीएसपी आमतौर पर अपना इंफ्रास्ट्रक्चर साझा करना पसंद नहीं करते हैं और भवन मालिकों के साथ विशिष्ट अनुबंध कर लेते हैं। इसमें कोई बुराई नहीं है। लेकिन ये अनुबंध इतने एकाधिकारी नहीं होने चाहिए कि ग्राहक को दूसरा टीएसपी चुनने का मौका ही न मिले।

ट्राई ने एक ही इमारत में विभिन्न टीएसपी द्वारा अपना पृथक इन्फ्रास्क्चर स्थापित किए जाने को खर्चीला और निवासियों के लिए असुविधाजनक बताते हुए एक टीएसपी के इन्फ्रास्ट्रक्चर को सभी के साथ साझा करने के डीओटी के सुझाव को इस शर्त के साथ स्वीकार किया है कि साझेदारी के नियम उचित एवं पारदर्शी होने चाहिए।

Posted By: Praveen Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस