नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। एयर कार्गो पर जोर देने के लिए सरकार जल्दी ही नीति जारी करेगी। नागरिक विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि इससे न सिर्फ एविएशन सेक्टर बल्कि देश की अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा मिलेगा। वह यहां उत्तरी गोवा के मोपा में नए अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की प्रगति की समीक्षा के लिए यहां आए थे।

प्रभु ने बताया कि हम एयर कार्गो पॉलिसी बनाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि एविएशन मार्केट की रफ्तार तेज की जा सके। इससे देश की अर्थव्यवस्था को भी फायदा मिलेगा। आर्थिक गतिविधियों में तेजी आएगी। उन्होंने कहा कि एविएशन सेक्टर की सफलता पूरी तरह निजी क्षेत्र की कंपनियों की भागीदारी पर निर्भर है। एयर कार्गो के परिवहन के लिए पैसेंजर विमानन सेवा के इन्फ्रास्ट्रक्चर का ही इस्तेमाल किया जा सकता है। एयर कार्गो के लिए रात का समय इस्तेमाल हो सकता है जब यात्री सेवाओं का ट्रैफिक काफी कम होता है।

प्रभु के अनुसार परिवहन लागत और इसमें लगने वाला समय ग्लोबल मार्केट में सफलता के लिए अत्यंत अहम है। इससे ही देश की प्रतिस्पर्धा में टिकने की क्षमता बढ़ेगी। जल्दी सड़ने होने वाली वस्तुओं जैसे फल व सब्जियों के परिवहन में एयर कार्गो महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। हम फल व सब्जियों के निर्यात के लिए कई देशों से बातचीत कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि देश में करीब 38 करोड़ टन कृषि उपजों और 40 करोड़ टन बागवानी उपजों की पैदावार होती है। इसमें 30 फीसद उपज बाजार में पहुंचने से पहले ही बर्बाद हो जाती है। इसका निर्यात करके हम बर्बादी रोक सकते हैं और किसानों की आय बढ़ाने में मदद दे सकते हैं।

भारत होगा सबसे बड़ा मार्केट: प्रभु ने कहा कि निकट भविष्य में भारत दुनिया का सबसे बड़ा एविएशन मार्केट बन जाएगा। इसके तेज विकास से रोजगार के तमाम अवसर भी पैदा होंगे। गोवा के मोपा हवाई अड्डे का पहला चरण 2020 तक पूरा होने की संभावना है।

By Praveen Dwivedi