नई दिल्ली, पीटीआइ। पंजाब ऐंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक घोटाले (PMC) में मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने मामले से जुड़े पांच आरोपियों के खिलाफ आज मुंबई के मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के सामने 32 हजार पन्नों का चार्जशीट दाखिल किया है। चार्जशीट में HDIL कंपनी के डायरेक्टर्स राकेश वधावन और उनके बेटे सारंग, PMC के पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर जॉय थॉमस, बैंक के पूर्व चेयरमैन वरयम सिंह और बैंक के पूर्व डायरेक्टर सुरजीत सिंह अरोड़ा को घोटाले में आरोपी बनाया गया है। इन सभी पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं जिनमें, चीटिंग, फ्रॉड, सबूतों को नष्ट करना और कागजात के साथ जालसाजी करना शामिल है। 

सितंबर में मामला सामने आने के बाद सभी को गिरफ्तार कर लिया गया था, फिलहाल सभी आरोपी न्यायिक हिरासत में हैं। 32,000 पन्नों की चार्जशीट में पीएमसी बैंक की फॉरेंसिक ऑडिट रिपोर्ट और आरोपी बैंक अधिकारियों द्वारा खरीदी गई संपत्तियों के दस्तावेज शामिल हैं, जो उनकी ओर से हासिल किए गए और एचडीआईएल और वधावन को देने के लिए थे।

चार्जशीट में बैंक खाताधारकों सहित 340 गवाहों के बयान हैं। पुलिस ने आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत मजिस्ट्रेट के सामने चार जरूरी गवाहों के बयान दर्ज किए थे।

पीएमसी बैंक की धोखाधड़ी इस साल सितंबर में सामने आई थी, जब भारतीय रिजर्व बैंक को यह पता चला था कि पीएमसी बैंक ने 6700 रुपये के लोन को छुपाने के लिए फर्जी खाते खोले थे।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस