टोक्यो, पीटीआइ/एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को जापान के उद्योग-व्यापार जगत के दिग्गजों से मुलाकात कर दोनों देशों के बीच आर्थिक गतिविधियां तेज करने और निवेश बढ़ाने पर बात की। पीएम मोदी ने जिन प्रमुख लोगों से बात की उनमें साफ्ट बैंक के मासायोशी सोन और सुजुकी मोटर कार्पोरेशन ओसामू सुजुकी शामिल हैं। दो दिवसीय यात्रा पर जापान पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को सबसे पहले इलेक्ट्रानिक्स क्षेत्र की दिग्गज कंपनी एनईसी कार्पोरेशन के चेयरमैन नोबुहीरो एंडो से मुलाकात की। इसके बाद जापान की प्रमुख वस्त्र निर्माता कंपनी यूनिक्लो के सीईओ तदाशी यानाई से मिले। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी की मुलाकात सोन और सुजुकी से हुई।

इन सभी से मोदी ने भारत में निवेश की संभावना पर बात की। उन्हें उद्योग स्थापना और उसके विस्तार के लिए अनुकूल माहौल और सुविधाओं का भरोसा दिया। एनईसी कार्पोरेशन के नोबुहीरो एंडो से मुलाकात में मोदी ने एनईसी के भारत के दूरसंचार क्षेत्र में निवेश और कार्यो की प्रशंसा की। खासतौर से चेन्नई-अंडमान और निकोबार द्वीपों और कोच्चि-लक्षद्वीप समूह में आप्टिकल फाइबर केबल डालने के कार्य के लिए प्रधानमंत्री ने कंपनी की प्रशंसा की।

उद्योग-व्यापार जगत के दिग्गजों से मुलाकात में मोदी ने प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआइ) स्कीम के फायदों के बारे में बताया। यह स्कीम भारत सरकार ने निवेशकों के लिए लागू की है। इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री ने भारत में व्यापारिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए किए गए सुधारों के बारे में बताया। ये सुधार औद्योगिक विकास, कर प्रणाली और श्रम कानूनों में किया गया है। प्रधानमंत्री ने भारत में नई तकनीक की उपलब्धता और अवसरों के बारे में भी उद्योग-व्यापार क्षेत्र के प्रमुखों को जानकारी दी।

एंडो ने भारत के स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट और 5 जी प्रोजेक्ट में रुचि दिखाई। एनईसी प्रमुख ने शिक्षा और सैन्य उत्पादन क्षेत्र में निवेश की अपनी योजनाओं पर चर्चा की। एंडो ने कहा, हमें इन क्षेत्रों में निवेश करने और कार्य करने में बड़ी प्रसन्नता होगी।

मोदी ने भारत में तेजी से बढ़ रहे कपड़े और वस्त्र के बाजार के बारे में भी बात की। उन्होंने यानाई से इस क्षेत्र को और बढ़ावा देने में सहयोग देने के लिए कहा। यानाई ने बताया कि यूनिक्लो भारत के रिटेल सेक्टर में निवेश पर गंभीरता से विचार कर रहा है। कुछ महीनों में इस पर निर्णय ले लेगा।

विपरीत स्थिति में 84 अरब डालर का निवेश हुआ

उद्योग-व्यापार क्षेत्र के प्रमुख लोगों के साथ गोलमेज बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि वर्ष 2021-22 के वित्त वर्ष में विपरीत वैश्विक स्थिति में भी भारत में 84 अरब डालर (6.51 लाख करोड़ रुपये) का निवेश हुआ। यह मजबूत भारत के प्रति दुनिया की सोच को दर्शाता है। प्रधानमंत्री ने भारत में जापान वीक मनाने का प्रस्ताव रखा, जिसके जरिये दोनों देशों के बीच व्यापारिक गतिविधियां बढ़ाने वाले उपायों पर चर्चा की जाएगी। इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने जापान की 34 बड़ी और मध्यम श्रेणी की कंपनियों के प्रमुख पदाधिकारियों से वार्ता की।

Edited By: Lakshya Kumar