नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी थमने का नाम नहीं ले रही है। मंगलवार को फिर देश में इन उत्पादों की कीमतों में बढ़ोत्तरी हुई है। कई शहरों में तो पेट्रोल का भाव 100 रुपये प्रति लीटर से अधिक जा पहुंचा है। इस बीच केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मंगलवार को पेट्रोल-डीजल के भाव में इस बढ़ोत्तरी के पीछे के कारण पर बात की है। प्रधान ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय बाजारों में क्रूड ऑयल की कीमत में बढ़ोत्तरी के चलते पेट्रोल-डीजल की कीमतों में तेजी आ रही है। उन्होंने कहा कि कीमतें धीरे-धीरे ही कम होंगी।

उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के चलते पहले ईंधन की वैश्विक सप्लाई घट गई थी, इससे उत्पादन भी कम कर दिया गया, लेकिन अब औद्योगिक गतिविधियों के पटरी पर आने से मांग बढ़ रही है और इसके साथ ही कीमतें भी बढ़ रही है। प्रधान ने कहा कि हम जीएसटी परिषद से लगातार पेट्रोलियम उत्पादों को इसके दायरे में शामिल करने का अनुरोध कर रहे हैं, क्योंकि इससे लोगों को फायदा होगा।

पेट्रोलियम मंत्री ने सोनिया गांधी द्वारा ईंधन की कीमतों में तेजी को लेकर प्रधानमंत्री को लिखे पत्र पर कहा, 'सोनिया जी को पता होना चाहिए कि राजस्थान और महाराष्ट्र में अधिकतम टैक्स है। लॉकडाउन के दौरान केंद्र और राज्य की कमाई नगण्य थी। हमने नौकरियां बढ़ाने के लिए बजट में विभिन्न क्षेत्रों को बड़ी पूंजी आवंटित की है।' 

प्रधान ने इससे पहले ईंधन की कीमत बढ़ने के पीछे दो मुख्य कारण बताए थे। एक तो अंतर्राष्ट्रीय बाजार ने ईंधन का उत्पादन कम कर दिया है और दूसरा यह कि अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए मैन्यूफैक्चरिंग देश कम ईंधन का उत्पादन कर रहे हैं, जिससे उपभोक्ता देश परेशान हैं। प्रधान ने कहा कि हम लगातार ओपेक (OPEC) और ओपेक प्लस देशों से आग्रह करते रहे हैं कि ऐसा नहीं होना चाहिए।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप