नई दिल्ली, पीटीआइ। लॉकडाउन के तीसरे चरण में ग्रीन और ऑरेंज जोन में E-Commerce कंपनियों ने गैर-जरूरी सामानों की बिक्री शुरू कर दी है। कंपनियों की बिक्री शुरू करने के साथ ही लोग Amazon, Paytm Mall और Snapdeal जैसे E-Commerce प्लेटफॉर्म से लैपटॉप, कपड़े से लेकर अन्य सामानों की धड़ाधड़ बुकिंग कर रहे हैं। हालांकि, इन कंपनियों के अधिकारियों का कहना है कि लॉकडाउन में पर्याप्त संख्या में कर्मचारी उपलब्ध नहीं होने के कारण सामानों की डिलिवरी में देरी हो सकती है। कंपनियों के अधिकारियों का कहना है कि वेयर हाउस और हब में कर्मचारियों की कमी की वजह से सामानों की डिलिवरी विलंबित हो सकती है। 

Amazon India के एक प्रवक्ता ने बताया कि ग्रीन और ऑरेंज जोन में सभी तरह के सामानों की बुकिंग शुरू करने के पहले दिन कंपनी को विभिन्न तरह के स्मार्ट उपकरणों, इलेक्ट्रिकल उपकरणों, कपड़ों और वर्क फ्रॉम होम में सहायक सामानों से जुड़े ऑर्डर मिले।

प्रवक्ता ने कहा, ''ऑरेंज और ग्रीन जोन के हमारे ग्राहक अपनी प्राथमिकता के हिसाब से ऐसी चीजें खरीद रहे हैं, जिनकी उनको सबसे ज्यादा जरूरत है। हजारों सेलर्स को मार्च में लॉकडाउन शुरू होने के बाद से पहली बार ऑर्डर मिले हैं। हम इस बात को लेकर आशान्वित हैं कि इससे कई छोटे विक्रेताओं एवं उनके यहां काम करने वाले लोगों की आजीविका फिर से शुरू होगी। ''

कंपनी ने रेड जोन के ग्राहकों के लिए भी प्राथमिकता वाले उत्पादों की बिक्री शुरू करने की अनुमति देने की अपनी मांग एक बार फिर दोहराई। कंपनी का कहना है कि इससे अधिक खतरे वाले इलाके में रह रहे लोगों को जरूरी सामान मिल जाएगा और आर्थिक गतिविधियों को पटरी पर लाने में मदद मिलेगी।

Snapdeal के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी को उम्मीद है कि ऑरेंज और ग्रीन जोन के 80-90 फीसद विक्रेता अगले एक सप्ताह में सक्रिय हो जाएंगे। उसने कहा कि औसतन 6-10 दिन में सामानों की डिलिवरी का  डेट दिया जा रहा है और ग्राहकों को इससे भी कम समय में सामानों की डिलिवरी मिल सकती है। 

Paytm Mall के वाइस प्रेसिडेंट श्रीनिवास मोथे ने कहा कि कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स, लैपटॉप, मोबाइल फोन और फैशन सेग्मेंट से सबसे ज्यादा ऑर्डर कंपनी को मिल रहे हैं।

हालांकि, उद्योग के अधिकारियों ने कहा कि कंपनियां कुछ मोर्चों पर चुनौतियों का सामना कर रही हैं। इंडस्ट्री से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि वेयरहाउसों में कर्मचारियों एवं डिलिवरी ब्वॉय की पर्याप्त उपलब्धता नहीं होने के कारण डिलिवरी में देरी हो सकती है। 

एक अधिकारी ने कहा कि प्रमुख E-Commerce कंपनी के सामने दूसरी सबसे बड़ी चुनौती ये है कि इनके अधिकतर विक्रेता या वेयरहाउस रेड जोन में हैं।

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस