नई दिल्‍ली, पीटीआइ। पतंजलि आयुर्वेद को अगले वित्‍त वर्ष में अपना टर्नओवर 35,000 करोड़ से 40,000 करोड़ रुपए तक पहुंचने की उम्‍मीद है। शुक्रवार को कंपनी के प्रवर्तक योग गुरु बाबा रामदेव ने यह बात कही। साथ ही उनका लक्ष्‍य पतंजलि को देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनी बनाना है। बता दें कि हाल ही में पतंजलि ने कर्ज बोझ से दबी रुचि सोया का अधिग्रहण किया है। कंपनी को चालू वित्‍त वर्ष में अपना टर्नओवर 25,000 करोड़ रुपए तक पहुंचने की उम्‍मीद है। जिसमें से 12,000 करोड़ का टर्नओवर पतंजलि ग्रुप का होगा और 13,000 करोड़ रुपए का टर्नओवर रुचि सोया का होगा।

रूचि सोया के अधिग्रहण के बाद पतंजलि को तीन गुना वृद्धि की उम्मीद है, साथी ही पतंजलि खाद्य तेल श्रेणी में एक प्रमुख कंपनी बन गई साथ ही सोयाबीन तेल, सूरजमुखी तेल और पाम ऑयल के घरेलू उत्पादन में सबसे आगे है। रामदेव ने कहा, 'इस वित्तीय वर्ष में रूचि सोया के साथ पतंजलि का कारोबार लगभग 25,000 करोड़ रुपये का होगा और अगले वित्त वर्ष (FY21) तक लगभग 35,000 करोड़ रुपये तक बढ़ने की उम्मीद है।

उन्होंने आगे कहा, 'अगले पांच वर्षों में हमारा लगभग 50,000 करोड़ रुपये से 1 लाख करोड़ रुपये तक का कारोबार होगा और HUL की जगह FMCG सबसे बड़ी कंपनी बन जाएगी।'

बता दें कि एफएमसीजी सेगमेंट में हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (HUL) मार्केट लीडर है। कंपनी को 2018-19 में 38,224 करोड़ रुपये की आय हुई थी, आगे इसके जीएसके हेल्थकेयर के कारोबार के साथ विलय की उम्मीद है। जब HUL के प्रवक्ता से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि कंपनी नीति के तहत हम कंपटीशन पर कमेंट नहीं करते हैं।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस