नई दिल्ली, पीटीआइ। घरेलू खाद्य कंपनी Parle Products देश में फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (FMCG) कंपनियों में सबसे ज्यादा चुने जाने वाले ब्रांड के रूप में उभरी है। मार्केटिंग रिसर्च फर्म कांतार की 'ब्रांड फुटप्रिंट' रिपोर्ट में यह बात कही गई है। कांतार इंडिया ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि पारले प्रोडक्ट्स कंज्यूमर रीच पॉइंट्स (CRPs) के आधार पर सबसे ज्यादा चुने गए FMCG ब्रांड के रूप में इस साल की रैंकिंग में सबसे आगे हैं।

सीआरपी उपभोक्ताओं की ओर से की गई वास्तविक खरीद और एक कैलेंडर वर्ष में इन खरीदारी की फ्रीक्वेंसी पर कंसीडर करता है। इसके बाद अमूल, ब्रिटानिया, क्लिनिक प्लस और टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स हैं। 5,715 (मिलियन) के सीआरपी स्कोर के साथ पारले लगातार 9वें साल रिकॉर्ड के साथ टॉप पर है। रिपोर्ट के अनुसार, COVID-19 महामारी से खरीदारी प्रभावित हुई, क्योंकि किराने का सामान खरीदने के लिए की गई औसत यात्राएं कम हो गईं लेकिन 2020 में प्रति ट्रिप अधिक खरीदारी दर्ज की गई।

खरीदारी की फ्रीक्वेंसी में एक फीसद की गिरावट दर्ज की गई, लेकिन प्रति यात्रा खर्च में पांच फीसद की वृद्धि हुई। इसके परिणामस्वरूप 2019 (72 फीसद) की तुलना में सीआरपी के मामले में कम संख्या में ब्रांड (50 फीसद) बढ़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhaar का कहीं गलत इस्तेमाल तो नहीं हुआ, घर बैठे ऐसे लगाएं पता

 स्वास्थ्य और स्वच्छता के लिए जाने जाने वाले डेटॉल ने एक वर्ष में आश्चर्यजनक रूप से सीआरपी में 48 फीसद की वृद्धि की और टॉप के 25 ब्रांड सूची में शामिल हो गया।

बयान के मुताबिक, डेटॉल के बाद लाइफबॉय 25 फीसद सीआरपी की वृद्धि के साथ, विम 21 फीसद सीआरपी (1454 मिलियन), डाबर 14 फीसद सीआरपी (1458 मिलियन) और ब्रिटानिया 11 फीसद सीआरपी (4694 मिलियन) पर था। कुल मिलाकर सीआरपी 86 अरब से बढ़कर 89 अरब हो गया है। हालांकि, 2019 में विकास दर 18 फीसद से घटकर 4 फीसद पर आ गई है।

Edited By: Nitesh