नई दिल्‍ली, आइएएनएस। सत्या नडेला द्वारा संचालित माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने एयरबीएनबी समर्थित भारतीय बजट होटल चेन ओयो (Oyo) में 50 लाख डॉलर का निवेश किया है, जिससे इसका मूल्यांकन अब 9 अरब डॉलर हो गया है। यह निवेश ऐसे समय पर हुआ है, जब हॉस्पिटैलिटी चेन जल्द ही संभावित प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (IPO) की योजना बना रही है।

इस सप्ताह OYO द्वारा एक नियामक फाइलिंग में कहा गया है कि माइक्रोसॉफ्ट ने इक्विटी शेयर और निजी नियोजन आधार पर अनिवार्य परिवर्तनीय संचयी वरीयता शेयरों के माध्यम से 50 लाख डॉलर (लगभग 37 करोड़ रुपये) का निवेश किया है।

हाल में सॉफ्टबैंक द्वारा ओयो की वैल्यू केवल तीन अरब डॉलर आंकी गई थी, जो उसके सबसे बड़े निवेशकों में से एक है। विश्वसनीय सूत्रों ने पिछले महीने आईएएनएस को बताया था कि उचित नियामक प्रक्रिया पूरी होने के बाद एक सौदा (डील) जल्द ही पूरा हो सकता है। उस समय सौदे की वैल्यू का पता नहीं चल सका था।

रितेश अग्रवाल द्वारा संचालित हॉस्पिटैलिटी चेन में एयरबीएनबी, चीनी राइड-हेलिंग दिग्गज दीदी चक्सिंग और राइड-हेलिंग फर्म ग्रैब रणनीतिक निवेशक हैं। संस्थापक और सीईओ अग्रवाल ने जुलाई में कहा था कि कंपनी जल्द ही संभावित आईपीओ पर विचार करेगी।

ओयो और माइक्रोसॉफ्ट के बीच सौदे के बारे में खबर तब सामने आई है, जब ओयो ने इस महीने की शुरुआत में घोषणा की थी कि उसने ग्लोबल इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स से टीएमबी (टर्म लोन बी) के रूप में 66 करोड़ डॉलर जुटाए हैं।

कंपनी के एक बयान में कहा गया था कि प्रस्ताव को 1.7 गुना अभिदान मिला है और कंपनी को प्रमुख संस्थागत निवेशकों से करीब 1 अरब डॉलर की प्रतिबद्धता मिली है।

कंपनी ने कहा कि वह इन फंडों का उपयोग अपने पिछले ऋणों को चुकाने, बैलेंस शीट को मजबूत करने और उत्पाद प्रौद्योगिकी में निवेश सहित अन्य व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए करेगी।

ओयो पहला भारतीय स्टार्टअप है, जिसे मूडीज और फिच, दो प्रमुख अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों द्वारा सार्वजनिक रूप से रेटिंग दी गई है। OYO हाल के वर्षों में दक्षिण पूर्व एशिया, यूरोप और अमेरिका सहित कई बाजारों में अपने परिचालन का विस्तार कर रही है।

Edited By: Ashish Deep

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट