PreviousNext

औद्योगिक उत्पादन 25 महीने के उच्चतम स्तर पर, नवंबर महीने में IIP हुआ 8.4%

Publish Date:Fri, 12 Jan 2018 06:13 PM (IST) | Updated Date:Fri, 12 Jan 2018 06:17 PM (IST)
औद्योगिक उत्पादन 25 महीने के उच्चतम स्तर पर, नवंबर महीने में IIP हुआ 8.4%औद्योगिक उत्पादन 25 महीने के उच्चतम स्तर पर, नवंबर महीने में IIP हुआ 8.4%
चालू वित्त वर्ष के नवंबर महीने में IIP में अच्छी खासी तेजी देखने को मिली है

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। चालू वित्त वर्ष के नवंबर महीने में आईआईपी के आकड़ों में मजबूती देखने को मिली है। नवंबर में आईआईपी ग्रोथ 8.4 फीसद के स्तर पर रही है। यह आंकड़ा 25 महीने का उच्चतम स्तर है। जानकारी के लिए बता दें कि अक्टूबर, 2017 में यह 2.2 फीसद और नवंबर 2016 में यह 5.7 फीसद के स्तर पर रहा था। मासिक आधार पर मैन्युफैक्चरिंग की बात करें तो नवंबर महीने में इस सेक्टर में तेजी दर्ज की गई है। यह नवंबर में 10.2 फीसद पर रहा है जो कि अक्टूबर महीने में 2.5 फीसद के स्तर पर था।

इलेक्ट्रिसिटी प्रोडक्शन की बात करें तो इसमें बढ़ोतरी दर्ज की गई है। अक्टूबर महीने के 3.9 फीसद के स्तर की तुलना में नवंबर महीने में यह 3.9 फीसद रही। माइनिंग के आउटपुट में भी तेजी देखने को मिली है। नवंबर महीने में यह 1.1 फीसद रही जबकि अक्टूबर महीने में यह 0.2 फीसद के स्तर पर रही थी।

वहीं, कैपिटल गुड्स प्रोडक्शन नवंबर महीने में 9.4 फीसद के स्तर पर रही है जो कि अक्टूबर महीने में 6.8 फीसद रही। कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की बात करें तो नवंबर में यह 2.5 फीसद रही। जबकि अक्टूबर महीने में यह (-)6.9 फीसद के स्तर पर रही था। कंज्यूमर नॉन ड्यूरेबल्स की बात करें तो इसका नवंबर में आउटपुट बढ़कर 23.1 फीसद रहा है जो कि अक्टूबर महीने में 7.7 फीसद रहा था।

वहीं प्राइमरी गुड्स सेक्टर में भी तेजी दर्ज की गई है। नंवबर में यह 3.2 फीसद रही जो कि अक्टूबर महीने में 2.5 फीसद रही थी। इंटरमीडिएट गुड्स का आउटपुट नंवबर महीने में 3.3 फीसद रहा जो कि अक्टूबर में 0.2 फीसद रहा था।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:November IIP soars to a 25 month high(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

2 दिन में 175 रुपये मंहगा हुआ सोना, जानिए क्या हैं नए दामCPI@5.21%: महंगाई 16 महीने की ऊंचाई पर, महंगी सब्जियों का दिखा असर