नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। सरकार ने RBI के डिप्टी गवर्नर बी पी कानूनगो का कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ा दिया है। भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने आरबीआइ के डिप्टी गवर्नर के रूप में बी पी कानूनगो की पुनर्नियुक्ति की है। उनका कार्यकाल तीन अप्रैल, 2020 से अगले एक साल या अगले आदेश तक के लिए बढ़ा दिया गया है। कानूनगो का मौजूदा कार्यकाल दो अप्रैल, 2020 को पूरा हो रहा है। कानूनगो डिप्टी गवर्नर का कार्यकाल संभालने से पहले केंद्रीय बैंक में ही कार्यकारी निदेशक के पद पर कार्यरत थे।

कानूनगो का परिचय

कानूनगो का जन्म पांच मई, 1959 को हुआ था। डिप्टी गवर्नर के रूप में वह मुद्रा प्रबंधन विभाग, विदेशी निवेश एवं परिचालन विभाग, सरकार और बैंक खाते विभाग, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, भुगतान एवं निपटान प्रणाली विभाग, विदेशी विनिमय विभाग, आंतरिक ऋण प्रबंधन विभाग, विधि विभाग और परिसर विभाग का कार्यभार देखते रहे हैं।

केंद्रीय बैंक में चार गवर्नर हैं। कानूनगो के अलावा वर्तमान में एन एस विश्वनाथन, एम के जैन और माइकल देवव्रत पात्रा आरबीआई के गवर्नर हैं। वरिष्ठ नौकरशाह शक्तिकांत दास आरबीआई के गवर्नर हैं।

कानूनगो ने वर्ष 1982 में आरबीआई के साथ अपना प्रोफेशनल करियर शुरू किया था। उन्होंने केंद्रीय बैंक के विभिन्न विभाग जैसे विदेशी मुद्रा प्रबंधन, बैंकिंग और गैर-बैंकिंग निगरानी, मुद्रा प्रबंधन, सरकार और बैंक खाते और सार्वजनिक ऋण में विभिन्न पदों पर काम किया था। कानूनगो ने कानूनी की पढ़ाई की है। इसके अलावा उनके पास उत्कल विश्वविद्यालय से मास्टर डिग्री भी है।

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस