नई दिल्ली (जेएनएन)। रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी की संपत्ति में लगातार इजाफा हो रहा है। 38 अरब डॉलर (2.5 लाख करोड़ रुपये) की नेटवर्थ के साथ वो लगातार 10वें साल भारत के सबसे अमीर शख्स बनकर उभरे हैं। दिलचस्प बात यह है कि आर्थिक सुस्ती के दौर में भी टॉप 100 अमीर लोगों की नेटवर्थ (संपत्ति) में 26 फीसद का इजाफा हुआ है।

फोर्ब्स ने जारी की इंडिया रिच लिस्ट 2017 की सूची: अमीर लोगों का आंकलन करने वाली पत्रिका ने इंडिया रिच लिस्ट 2017 की सूची जारी की है। इस सूची में मुकेश अंबानी टॉप पर बने हुए हैं। वहीं देश की तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर निर्माता कंपनी विप्रो के प्रमुख अजीम प्रेमजी ने दूसरा स्थान हासिल किया है। उनकी कुल नेटवर्थ 19 अरब डॉलर की है। अजीम प्रेमजी ने इस सूची में दो स्थानों की छलांग लगाई है।

फोर्ब्स की सूची के अनुसार टॉप टेन अमीर भारतीय:

  1. मुकेश अंबानी (रिलायंस इंडस्ट्रीज) संपत्ति- 38 बिलियन डॉलर
  2. अजीम प्रेमजी (विप्रो) संपत्ति- 19 बिलियन डॉलर
  3. हिंदुजा ब्रदर्स (अशोक लेलैंड) संपत्ति- 18.4 बिलियन डॉलर
  4. लक्ष्मी मित्तल (आर्सेलर मित्तल) संपत्ति- 16.5 बिलियन डॉलर
  5. पल्लोनजी मिस्त्री (शपूर्जी पल्लोनजी ग्रुप) संपत्ति-16 बिलियन डॉलर
  6. गोदरेज फैमिली (गोदरेज ग्रुप) संपत्ति- 14.4 बिलियन डॉलर
  7. शिव नादर (एचसीएल टेक्नॉलजीज) संपत्ति- 13.6 बिलियन डॉलर
  8. कुमार बिड़ला (आदित्य बिड़ला ग्रुप) संपत्ति- 12.6 बिलियन डॉलर
  9. दिलीप शांघवी (सन फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज) संपत्ति- 12.1 बिलियन डॉलर
  10. गौतम अडाणी (अडाणी पोर्ट एंड सेज) संपत्ति- 11 बिलियन डॉलर
     

अन्य किन लोगों को मिली जगह: वहीं दवा बनाने वाली प्रमुख कंपनी सनफार्मा के प्रमुख दिलीप सांघवी 12.1 अरब डॉलर की नेटवर्थ के साथ नौवें स्थान पर रहे हैं, बीते साल वो दूसरे स्थान पर काबिज थे। मुकेश अंबानी के छोटे भाई अनिल अंबानी अमीरों की सूची में काफी नीचे 45वें स्थान पर रहे हैं। उनकी नेटवर्थ 3.15 अरब डॉलर आंकी गई है। वो बीते साल 32वें तथा 2015 में 29वें स्थान पर रहे थे। वहीं योगगुरु रामदेव के करीबी आचार्य बालकृष्ण लंबी छलांग लगाकर 6.55 अरब डॉलर यानी 43 हजार करोड़ रुपये की नेटवर्थ के साथ 19वें स्थान पर पहुंच गये हैं।

मोदी सरकार के फैसलों का देश के अमीरों पर नहीं पड़ा असर: फोर्ब्स ने इस सूची को जारी करने के साथ ही यह भी कहा है कि मोदी सरकार की ओर से लिए गए आर्थिक सुधारों का देश के अमीरों पर नाममात्र को असर पड़ा है। बीते साल मुकेश अंबानी की संपत्ति में 67 फीसद (15.3 अरब डॉलर) का इजाफा हुआ है और इसी वजह से वो शीर्ष स्थान पर काबिज रहने में सफल रहे हैं। इतना ही नहीं वो एशिया के शीर्ष 5 अमीरों में भी शामिल होने में सफल रहे हैं।

Posted By: Praveen Dwivedi