नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल) ने 4-जी सेवा लांच करने की तैयारी की है। इसके लिए कंपनी ने सरकार से दो बैंड्स के अधीन स्पेक्ट्रम आवंटन की गुजारिश की है, ताकि 4-जी सेवा शुरू की जा सके। कंपनी ने कहा है कि वह स्पेक्ट्रम बदले में सरकार को इक्विटी शेयर देने को तैयार है। एमटीएनएल के चेयरमैन व एमडी (सीएमडी) आर. के. पुरवार ने रविवार को कहा कि कंपनी ने टेलीकॉम विभाग (डॉट) को पत्र लिखकर तथा 2,100 मेगाहट्र्ज बैंड के तहत स्पेक्ट्रम की मांग की है।

पुरवार का कहना था कि टेलीकॉम सेक्टर की मौजूदा गलाकाट स्पर्धा की स्थिति में बाजार में बने रहने के लिए कंपनी के पास 4-जी सेवा होनी ही चाहिए। गौरतलब है कि एमटीएनएल सिर्फ दो टेलीकॉम सर्किल, दिल्ली व मुंबई में सेवाएं दे रही है।

पुरवार ने कहा, ‘वर्तमान में 85 फीसद से ज्यादा डाटा डाउनलोड 4-जी के जरिये हो रहा है। ऐसे में टेलीकॉम सेक्टर में परिचालन कर रही छोटी से छोटी या बड़ी से बड़ी कंपनी के पास 4-जी स्पेक्ट्रम होना नितांत जरूरी है। हमने हाल ही में सरकार से स्पेक्ट्रम मांगा है।’1एमटीएनएल ने 4-जी सेवा लांच करने के लिए सरकार से दिल्ली में 10 मेगाहट्र्ज बैंड, जबकि मुंबई में पांच मेगाहट्र्ज 2,100 बैंड की मांग की है। वर्तमान में कंपनी के पास 900, तथा 2,100 बैंड्स में स्पेक्ट्रम उपलब्ध हैं। इनमें से 3-जी सेवा के लिए बैंड के 2.2 मेगाहट्र्ज, जबकि 2,100 बैंड के पांच हट्र्ज स्पेक्ट्रम का उपयोग हो रहा है।

पुरवार ने कहा कि कंपनी की प्रमोटर होने के बावजूद लाइसेंस प्रदाता के तौर पर सरकार कंपनी से स्पेक्ट्रम के बदले शुल्क लेने को बाध्य है। कंपनी को जरूरी स्पेक्ट्रम के लिए करीब 6,500 करोड़ रुपये का निवेश करना होगा। कंपनी मौजूदा बाजार भाव पर सरकार को इस रकम के एवज में इक्विटी देने को तैयार है।

Posted By: Surbhi Jain

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस