नई दिल्ली, प्रेट्र। परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनियां (एएमसी) अगले महीने से म्यूचुअल फंड की नई योजनाएं लाने की तैयारियों में जुटी हैं। सेबी की तरफ से नए फंड की पेशकश पर लगाई गई तीन महीने की रोक अब खत्म होने जा रही है। बाजार नियामक ने नई फंड पेशकश लाने पर नई प्रणाली लागू होने तक रोक लगा दी थी। नई प्रणाली के क्रियान्वयन के लिए सेबी ने एक जुलाई की समयसीमा तय की हुई है। पाबंदी की अवधि खत्म होता देख म्यूचुअल फंड कंपनियां नई फंड योजनाएं लाने की तैयारियों में लग गई हैं।

वित्त वर्ष 2021-22 में एएमसी ने 176 नए फंड किए पेश

इस महीने कम से कम छह एएमसी ने नई योजनाएं शुरू करने की मंजूरी के लिए सेबी के पास दस्तावेज जमा करवाए हैं। वहीं, अप्रैल से मई के बीच दर्जनभर कंपनियों ने 15 योजनाओं के लिए सेबी के पास दस्तावेज जमा कराए थे। वित्त वर्ष 2021-22 में एएमसी ने 176 नए फंड पेशकश कर 1.08 लाख करोड़ रुपये जुटाए थे। इसके पहले वर्ष 2020-21 में 84 नई फंड पेशकश लाई गई थीं। चालू वित्त वर्ष 2022-23 में अब तक केवल चार फंड पेशकश ही की गई हैं, जिनसें सिर्फ 3,307 करोड़ रुपये ही जुटाए जा सके हैं।

आपको बता दें कि निश्चित आय (Fixed Income) वाले डेट म्यूचुअल फंड्स (Debt Mutual Funds) से मई में 32,722 करोड़ रुपये की निकासी हुई। वैश्विक कारकों के कारण महंगाई से निपटने के लिए आरबीआइ के रूख को देखते हुए पिछले महीने निकासी बढ़ी है। एसोसिएशन आफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के डाटा के अनुसार, अप्रैल में इन योजनाओं में 54,656 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था। AMFI के अनुसार, अप्रैल के मुकाबले मई में पोर्टफोलियो की संख्या में भी कमी आई है। डाटा के अनुसार, अप्रैल के 73.43 लाख के मुकाबले मई में फोलियो की संख्या घटकर 72.87 लाख रह गई है।

Edited By: Sarveshwar Pathak