मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने मंगलवार को देश में अच्छे अर्थशास्त्रियों की कमी पर चिंता जताते हुए कहा कि बेहतर प्रतिभाओं की कमी से नीति निर्माण प्रभावित हो रहा है।

राजन ने कहा, 'हमारे देश में क्षमतावान अर्थशास्त्रियों की काफी कमी है। मैं हर दिन अपने कामकाज में यह देखता हूं। दिल्ली, मुंबई और पूरे देश में इनकी जरुरत है। हमने अर्थशास्त्रियों की एक पीढ़ी खो दी है।'

उचित नीतियों के लिए अच्छे अर्थशास्त्रियों की जरुरत को बताते हुए राजन ने कहा कि जिस अर्थशास्त्र की हमें जरुरत है वह अर्थशास्त्र की बुनियाद को समझने की जरुरत पर टिकी है। मसलन मूल्य सिद्धान्त तथा सामान्य संतुलन। यह समझने में सबसे मुश्किल अवधारणा है।

उन्होंने कहा कि बहुत सी नीतियां सामान्य संतुलन को समझे बिना बनाई जाती हैं। यह किसी अर्थशास्त्री का सबसे बडा योगदान हो सकता है। राजन ने मंगलवार को यहां मेघनाद देसाई अकादमी आफ इकनॉमिक्स का उद्घाटन करते हुए यह बात कही। हालांकि, यह कार्यक्रम बंद दरवाजे में हुआ था, लेकिन आयोजकों ने आज गवर्नर के हवाले से यह बयान जारी किया।

बिजनेस सेक्शन की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Shashi Bhushan Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस