जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात से खादी की बिक्री को भारी प्रोत्साहन मिला है। मोदी ने पहली बार दो अक्टूबर 2014 को मन की बात में लोगों से खादी खरीदने की अपील की थी और उसके बाद से अब तक खादी के उत्पादन में 188 फीसद की बढ़ोतरी हो चुकी है। रविवार को मन की बात में एक बार फिर से खादी का जिक्र करने के बाद खादी ग्रामोद्योग (केवीआइसी) की आनलाइन हिट में भारी बढ़ोतरी देखी गई। केवीआइसी के चेयरमैन वीके सक्सेना कहते हैं कि वर्ष 2014-15 में खादी का उत्पादन 879.98 करोड़ रुपये का था।

वर्ष 2018-19 तक खादी के उत्पादन में 100 फीसद से अधिक की वृद्धि दर्ज हो चुकी थी। वहीं वर्ष 2014-15 के मुकाबले फिलहाल खादी के उत्पादन में 188 फीसद की बढ़ोतरी हो चुकी है। सक्सेना ने बताया कि प्रधानमंत्री की तरफ से एक बार फिर से खादी का जिक्र करने के बाद रविवार को केवीआइसी के आनलाइन ट्रैफिक में भारी बढ़ोतरी देखी गई। केवीआइसी के आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2014 के बाद से ही खादी के किसी एक स्टोर की बिक्री एक दिन में लाखों रुपये से अधिक होने लगी।

दो अक्टूबर, 2014 को मन की बात में लोगों से खादी की खरीदारी करने की प्रधानमंत्री की अपील के बाद चार अक्टूबर, 2014 को खादी इंडिया की एक दिन की बिक्री 66.81 लाख रुपये की रही जो उस समय सर्वाधिक थी। हालांकि उसके बाद से खादी की बिक्री में लगातार बढ़ोतरी होती चली गई और अब एक साल में कई मौकों पर केवीआइसी के एक स्टोर की बिक्री एक करोड़ रुपये से अधिक हो जाती है।

केवीआइसी के मुताबिक वर्ष 2019 के दो अक्टूबर को नई दिल्ली के कनाट प्लेस स्थित खादी इंडिया ने 1.27 करोड़ रुपये की बिक्री हुई, जो अब तक का रिकार्ड है। केवीआइसी के मुताबिक प्रधानमंत्री के मन की बात में खादी का जिक्र आने के बाद से नौजवान खादी की ओर आकर्षित होने लगे और अब यह फैशन का रूप लेता जा रहा है। कोरोना के बावजूद गत वित्त वर्ष 2020-21 में केवीआइसी का कारोबार पूर्व के वित्त वर्ष के मुकाबले 7.71 फीसद से बढ़कर 95,741.74 करोड़ रुपये का हो गया। केवीआइसी खादी के साथ विभिन्न प्रकार के अन्य उत्पादों की बिक्री भी करता है।

Edited By: Nitesh