नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। जेट एयरवेज की घरेलू पायलट बॉडी, द नेशनल एविएटर्स गिल्ड (एनएजी) ने मंगलवार को लंबित सैलरी के मुद्दे पर एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार से मिलने का समय मांगा है। गौरतलब है कि एसबीआई की अगुवाई में कर्जदाताओं के समूह की ओर से नरेश गोयल की कंपनी के अधिग्रहण के एक दिन बाद एनएजी ने यह मांग रखी है।

एनएजी ने पिछले हफ्ते घोषणा की थी कि अगर उनके बकाये वेतन का भुगतान तथा कंपनी को पटरी पर लाने की रूपरेखा 31 मार्च तक उपलब्ध नहीं कराई जाती है, तो उसके 1,100 सदस्य एक अप्रैल से उड़ान रोक देंगे। कंपनी में जारी मौजूदा उठापटक के बीच बीते दिन जेट एयरवेज के संस्थापक और चेयरमैन नरेश गोयल तथा निदेशक मंडल में शामिल उनकी पत्नी अनीता गोयल ने बोर्ड से इस्तीफा दे दिया था। इसके साथ ही अब जेट एयरवेज में नरेश गोयल की हिस्सेदारी 50.1 फीसद से घटकर 25.5 फीसद पर आ गई है।

वहीं एतिहाद की हिस्सेदारी भी 24 फीसद से घटकर 12 फीसद पर आ गई है। नई डील के अंतर्गत एसबीआई की अगुवाई में बैंक तत्काल 1,500 करोड़ रुपये की पूंजी एयरलाइंस में डालेंगे और 9,700 करोड़ रुपये के कर्ज को इक्विटी में बदलेंगे। नई पूंजी के साथ कंपनी में बैंकों की हिस्सेदारी 50.1 प्रतिशत पर आ गई है। गौरतलब है कि एक बिलियन डॉलर से अधिक के कर्ज में डूबी जेट पर पर बैंकों, सप्लायर्स की देनदारी और पायलट और पट्टे का भुगतान बकाया है।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप