नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। वित्तीय संकट से जूझ रही कंपनी जेट एयरवेज ने मंगलवार को अपने ग्राहक यात्रियों को भेजे गए एक पत्र में कहा कि पूंजी जुटाने के लिए वह कई निवेशकों के साथ सक्रियता से बात कर रही है। जेट एयरवेज के सीईओ विनय दूबे ने कहा कि कंपनी के मजबूत ब्रांड में कई पक्षों की रुचि है और कारोबार को लाभ में लाने की कोशिशों के प्रति भरोसा है।

पिछले दिनों आई खबरों में कहा गया था कि टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस जेट एयरवेज के विभिन्न कारोबारी पहलुओं की गहराई से जांच पड़ताल कर रही है। इसके जवाब में टाटा संस ने कहा था कि जेट एयरवेज को लेकर हो रही कोई भी वार्ता प्रारंभिक चरण में है और कोई प्रस्ताव नहीं रखा गया है। जेट एयरवेज को चालू वित्त वर्ष (2018-19) की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में 1,261 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है।

कंपनी के सीईओ ने अपने ग्राहकों से कहा कि विमानन कंपनी इस चुनौतीपूर्ण समय को सफलता से पार करेगी और लंबी अवधि के विकास और लाभ के लिए काम करेगी। विमानन कंपनी ने अपने नेटवर्क की समीक्षा की है और वह विमानों को अधिक लाभ वाले मार्गो पर लगा रही है।

20 अतिरिक्त सेवा शुरू करने की घोषणा: कंपनी ने एक दिसंबर से अपने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मार्गो पर 20 अतिरिक्त सेवा शुरू करने की घोषणा की। जेट एयरवेज ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मार्गो में शामिल हैं पुणो और सिंगापुर के बीच एक नई सेवा, मुंबई और दिल्ली से दोहा के मार्ग पर एक दूसरी दैनिक सेवा और मुंबई व दुबई के बीच सातवीं दैनिक सेवा। कंपनी अपने हब से आसियान और खाड़ी देशों में 14 नई सेवाएं शुरू कर रही है। घरेलू मार्गो पर मुंबई व अमृतसर सेवा दैनिक की जा रही है। दिल्ली-अमृतसर सेवा शुरू होगी। इसके अलावा कंपनी मुंबई-गुवाहाटी और मुंबई-पटना मार्ग पर फ्रिक्वेंसी बढ़ा रही है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Praveen Dwivedi