नई दिल्ली, पीटीआइ। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को अर्थव्यवस्था में मजबूती के लिए कई बड़ी घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि देश में औद्योगिक उत्पादन और स्थिर निवेश में सुधार दिखाई दे रहा है। हालांकि, देखा जाए तो आर्थिक वृद्धि की दर छह साल के निचले स्तर पर आ गई है। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने सुस्त घरेलू अर्थव्यवस्था के लिए प्रोत्साहनों की तीसरी किस्त की घोषणा की। उन्होंने कहा कि बैंकों से कर्ज प्रवाह को बेहतर करने के लिए कदम उठाये जा रहे हैं।

वित्त मंत्री ने कहा कि नीतिगत दर में कटौती का लाभ बैंक ग्राहकों को देने लगे हैं। बता दें कि इसकी समीक्षा करने के लिए सीतारमण 19 सितंबर को सार्वजनिक बैंकों (PSU) के प्रमुखों के साथ मुलाकात करेंगी। रिजर्व बैंक फरवरी से अब तक रेपो रेट में 1.10 फीसद की कटौती कर चुका है।

महंगाई नियंत्रित, औद्योगिक उत्पादन में सुधार
वित्त मंत्री ने कहा कि महंगाई नियंत्रण में है और औद्योगिक उत्पादन में सुधार दिख रहा है। उन्होंने कहा कि महंगाई चार फीसद के लक्ष्य से नीचे है। सरकार ने रिजर्व बैंक को खुदरा महंगाई चार फीसद से नीचे रखने का लक्ष्य दिया है। हालांकि खुदरा महंगाई अगस्त में कुछ तेज होकर 3.21 फीसद पर पहुंच गई, लेकिन यह अब निर्धारित दायरे में है।

सीतारमण ने कहा कि 2018-19 की चौथी तिमाही में औद्योगिक उत्पादन से संबंधित सारी चिंताओं के बाद भी जुलाई 2019 तक हमें सुधार के स्पष्ट संकेत दिखाई देते हैं। उन्होंने कहा कि आंशिक ऋण गारंटी योजना समेत गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) में कर्ज का प्रवाह सुधारने के कदमों की घोषणा के परिणाम दिखाई देने लगे हैं। उन्होंने कहा, गोवा में जीएसटी परिषद की बैठक से एक दिन पहले वह अर्थव्यवस्था में कर प्रवाह की समीक्षा करने के लिए 19 सितंबर को सार्वजनिक बैंकों के प्रमुखों से मुलाकात करेंगी। 

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस