नई दिल्ली, पीटीआई. वैश्विक जगत में उपजी महंगाई की आंच भारत तक आ पहुंची है। अमेरिका और ब्रिटेन में महंगाई ने पिछले 40 साल के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। ऐसे में भारत में भी जल्द महंगाई की मार देखने के मिल सकती है। महंगाई का असर केवल एक ही सेक्टर तक सीमित नहीं रहने वाला है। भारत में मैन्युफैक्चरिंग से लेकर सर्विस सेक्टर सभी प्रभावित हो सकते हैं।

महंगाई से सभी सेक्टर होंंगे प्रभावित 

टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड (टीसीपीएल) के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने कहा कि मौजूदा समय बहुत ही अस्थिर है और लगातार महंगाई बने रहने से सभी श्रेणियों की मांग प्रभावित हो सकती है। उन्होंने कहा कि कंपनी इस अनिश्चित माहौल और अल्पकालिक बाधाओं से निपटने के लिए दृढ़ता से काम कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि कंपनी प्रगति के लिए विभिन्न श्रेणियों में अधिग्रहण के अवसरों की तलाश जारी रखेगी।

सप्लाई चेन की चुनौतियों का करना पड़ सकता है सामना 

टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस के चेयरमैन चंद्रशेखरन ने कहा कि भू-राजनीतिक तनाव, सप्लाई चेन की चुनौतियों और कच्चे तेल और कई अन्य वस्तुओं में मांग-आपूर्ति का असंतुलन महंगाई को बढ़ाने में सहायक बने हुए हैं और यह सभी श्रेणियों की मांग को प्रभावित करेगा। शेयरधारकों की बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2020-2021 बहुत ही घटना प्रधान रहा है। महामारी और हाल ही में भू-राजनीतिक तनाव से उत्पन्न चुनौतियों के परिणामस्वरूप अस्थिर वातावरण बना हुआ है। उन्होंने कहा कि इन अभूतपूर्व चुनौतियों ने हमें नए तरह से सोचने और भविष्य के निर्माण के अवसर दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस चुनौतीपूर्ण समय में भी टीसीपीएल ने महत्वपूर्ण प्रगति की है। इसमें नवाचार की गति को तेज करना, सप्लाई चेन को फिर से दुरुस्त करना और भुगतान प्रणाली में डिजिटल परिवर्तन को बढ़ावा देना शामिल है। उन्होंने कहा कि ये वे निवेश हैं जो हम लंबी अवधि के लिए कर रहे हैं।

Edited By: Saurabh Verma