नई दिल्ली। अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के दौरान विकास दर में पिछली तिमाही के मुकाबले मामूली सुधार मुमकीन है। शुक्रवार को तीसरी तिमाही के लिए जीडीपी [सकल घरेलू उत्पादन] आंकड़ों का ऐलान होगा।

तिमाही दर तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में विकास दर 4.8 फीसद से बढ़कर 4.9 फीसद रह सकती है। पिछले साल इसी दौरान जीडीपी 4.7 प्रतिशत बढ़ा था।

कृषि क्षेत्र ने संभाला

विशेषज्ञों के मुताबिक कृषि क्षेत्र के उत्पादन में अच्छी वृद्धि की वजह से जीडीपी में तेज गिरावट थामने में मदद मिली है क्योंकि औद्योगिक उत्पादन अब भी कमजोर है। वित्त वर्ष 2013 की तीसरी तिमाही में कृषि जीडीपी 1.5 फीसद से भी कम थी, जो इस बार 4.5 फीसद से ऊपर चले जाने का अनुमान है। लेकिन सालाना आधार तीसरी तिमाही के दौरान औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि की दर 1 फीसद के मुकाबले 0.7 फीसद ही रह सकती है।

सर्विस सेक्टर पिछड़ा

सर्विस सेक्टर की ग्रोथ पिछले साल के मुकाबले थोड़ा कम रह सकती है। साल-दर-साल आधार पर तीसरी तिमाही में सर्विस सेक्टर की ग्रोथ 7 फीसद से घटकर 6.9 फीसद रह सकती है। अर्थशास्त्रियों के मुताबिक अगले वित्त वर्ष के दौरान जीडीपी ग्रोथ बेहतर रहने के आसार हैं।

पढ़े: अगले वित्त वर्ष में 5.5 फीसद रहेगी विकास दर

सिर्फ शुल्क घटाने से नहीं दूर होगी औद्योगिक मंदी

किसानों को सिर्फ कर्ज का झुनझुना

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस