लंदन, प्रेट्र। भारत और ब्रिटेन के बीच मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) को लेकर लंदन में चल रही चौथे दौर की वार्ता संपन्न हो गई है। दोनों देशों की ओर से जारी संयुक्त बयान में कहा गया है कि अधिकांश मुद्दों पर सहमति बन गई है और समझौता पत्र को अंतिम रूप दिया जा रहा है।ब्रिटेन के अंतरराष्ट्रीय व्यापार विभाग (डीआइटी) ने कहा कि शुक्रवार को समाप्त हुई वार्ता में तकनीकी विशेषज्ञों ने 71 सत्रों में 20 नीतिगत क्षेत्रों पर चर्चा की। डीआइटी ने कहा कि वार्ता में अधिकांश अधिकारी वर्चुअल तरीके से शामिल हुए। एफटीए पर पांचवें दौर की वार्ता अगले महीने दिल्ली में होगी।

अप्रैल में ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जानसन ने भारत यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ संयुक्त बयान में कहा था कि एफटीए वार्ता से जुड़े अधिकारियों से समझौता को दिवाली तक अंतिम रूप देने को कहा गया है। वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने हाल ही में कहा था कि अक्टूबर की समयसीमा को लेकर अच्छी प्रगति हो रही है। एफटीए वार्ता व्यापार से जुड़ी बाधाएं हटाने, शुल्क में कटौती और निर्यात के लिए कंपनियों की मदद जैसे मुद्दों पर केंद्रित है।

डीआइटी के अनुसार, अभी भारत और ब्रिटेन के बीच द्विपक्षीय कारोबार 24 अरब पाउंड सालाना है। पिछले वर्ष मई में ब्रिटिश पीएम जानसन और पीएम मोदी ने व्यापार भागीदारी के जरिये द्विपक्षीय कारोबार को 2030 तक 50 अरब पाउंड तक ले जाने का दावा किया था। विशेषज्ञों का कहना है कि एफटीए होने से द्विपक्षीय कारोबार को और बढ़ाया जा सकता है।

भारत-ईयू में एफटीए पर वार्ता शुरू

वहीं दूसरी तरफ भारत और यूरोपियन यूनियन (ईयू) के बीच मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) को लेकर सोमवार को फिर से वार्ता शुरू हो गई है। आर्थिक संबंध मजबूत करने को लेकर दोनों के बीच आठ वर्षो के बाद यह वार्ता हो रही है। दोनों तरफ के वरिष्ठ अधिकारी एक जुलाई तक विचार-विमर्श करेंगे। 

Edited By: Ashisha Rajput