नई दिल्ली, पीटीआइ। भारतीय उद्योग जगत से 2022 में औसतन 8.6 फीसद की वेतन वृद्धि देने की उम्मीद है. डेलॉयट के एक सर्वे में यह बातें सामने आयी हैं। कॉरपोरेट इंडिया ने 2021 में अपने कर्मचारियों की औसतन आठ फीसद की वेतन वृद्धि की। यह एक स्वस्थ अर्थव्यवस्था और आत्मविश्वास में सुधार के अनुरूप है।

डेलॉयट के वर्कफ़ोर्स और वेतन वृद्धि रुझान सर्वे 2021 के सेकंड फेज के अनुसार, 92 फीसद कंपनियों ने 2020 में केवल 4.4 फीसद की तुलना में 2021 में औसतन आठ फीसद की वेतन वृद्धि की। सर्वे में शामिल लगभग 25 फीसद कंपनियों ने 2022 के लिए दोहरे अंकों की वेतन वृद्धि देने का अनुमान लगाया है। 2020 में केवल 60 फीसद कंपनियों ने अपने कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि की थी। सर्वे के मुताबिक, 2022 में औसत वेतन वृद्धि बढ़कर 8.6 फीसद होने की उम्मीद है जो 2019 के महामारी के पहले के स्तर के बराबर होगी।

2021 वर्कफ़ोर्स और वेतन वृद्धि रुझान' सर्वे जुलाई 2021 में शुरू किया गया था। इस सर्वे में सबसे पहले अनुभवी मानव संसाधन (HR) पेशेवरों से उनका रुख जाना गया। सर्वे में 450 से अधिक कंपनियां शामिल थीं। सर्वे के अनुसार कंपनियां कौशल और प्रदर्शन के आधार पर वेतन वृद्धि में अंतर करना जारी रखेंगी और सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले कर्मचारी औसत प्रदर्शन करने वालों को दी जाने वाली वेतन वृद्धि के लगभग 1.8 गुना ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद कर सकते हैं।

डेलॉयट टच तोहमत्सु इंडिया एलएलपी के पार्टनर आनंदोरूप घोष के अनुसार, जहां ज्यादातर कंपनियां 2021 की तुलना में 2022 में बेहतर वेतन वृद्धि देने का अनुमान लगा रही हैं, हम एक ऐसे माहोल में काम कर रहे हैं जहां कोविड-19 से जुड़ी अनिश्चितता बनी हुई है। इससे कंपनियों के लिए पूर्वानुमान लगाना कठिन हो जाता है। सर्वे में शामिल कुछ उत्तरदाताओं ने भी अभी-अभी अपनी 2021 की वेतन वृद्धि के चक्र को बंद किया है। इसलिए 2022 की वेतन वृद्धि उनके लिए अभी काफी दूर है।"

सर्वे से संकेत मिलता है कि 2022 में, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (IT) क्षेत्र में सबसे ज्यादा वेतन वृद्धि देने की संभावना है, इसके बाद जीवन विज्ञान (लाइफ साइंसेज) क्षेत्र आता है।

Edited By: Nitesh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट