Move to Jagran APP

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा घरेलू विमानन बाजार बना भारत, 10 वर्षों में 74 से बढ़कर 157 हुई एयरपोर्ट की संख्या

ओएजी डाटा के अनुसार भारत अप्रैल 2024 में 1.56 करोड़ सीटों की एयरलाइन क्षमता के साथ तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। पांच घरेलू बाजारों में भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाला बाजार है। 6.3 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि के साथ चीन उसके बहुत करीब था जबकि इस दौरान अमेरिका और इंडोनेशिया में वृद्धि दर बहुत कम ही रही है।

By Agency Edited By: Ram Mohan Mishra Thu, 20 Jun 2024 10:00 PM (IST)
भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा घरेलू विमानन बाजार बन गया है।

आइएएनएस, नई दिल्ली। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा घरेलू विमानन बाजार बन गया है। दस साल पहले भारत लगभग 80 लाख सीटों के साथ पांचवें स्थान पर था। चौथे स्थान पर इंडोनेशिया और तीसरे स्थान पर ब्राजील था। अमेरिका और चीन क्रमश: पहले और दूसरे स्थान पर थे।

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा घरेलू विमानन बाजार 

ओएजी डाटा के अनुसार, भारत अप्रैल 2024 में 1.56 करोड़ सीटों की एयरलाइन क्षमता के साथ तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। पांच घरेलू बाजारों में भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाला बाजार है। 2014 से 2024 के बीच सीटों की क्षमता वृद्धि की बात करें, तो 6.9 प्रतिशत के साथ भारत सबसे आगे रहा।

यह भी पढ़ें- वित्तीय क्षेत्र की कंपनियों का कर प्रोत्साहन देने का सुझाव, बजट से पहले हुई दूसरी परामर्श बैठक

इंडिगो की बढ़ी बाजार हिस्सेदारी 

6.3 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि के साथ चीन उसके बहुत करीब था, जबकि इस दौरान अमेरिका और इंडोनेशिया में वृद्धि दर बहुत कम रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले दस वर्षों के दौरान इंडिगो ने अपनी बाजार हिस्सेदारी 2014 के 32 प्रतिशत से बढ़कर 2024 में 62 प्रतिशत हो गई।

सरकार के अनुसार, पिछले 10 वर्षों में देश में एयरपोर्ट की संख्या 74 से बढ़कर 157 हो गई है। 2023 में 91 लाख से अधिक यात्रियों ने डिजी यात्रा की सुविधा का लाभ उठाया और 35 लाख से अधिक उपयोगकर्ताओं ने एप डाउनलोड किया गया।

यह भी पढ़ें- GST Portal पर रजिस्ट्रेशन के लिए आ सकता है नया नियम, हेल्थ इंश्योरेंस पर टैक्स घटने की उम्मीद