नई दिल्ली। भारत पहली बार दुनिया के उन तीन देशों में आ गया है, जहां से सबसे ज्यादा अरबपति निकल रहे हैं। चीन की पत्रिका हुरुन की ग्लोबल रिच लिस्ट 2015 केअनुसार अमेरिका में सबसे ज्यादा अरबपति हैं। उसके बाद चीन और फिर भारत का नंबर है। दुनियाभर के 2,089 अरबपतियों में 97 भारत से हैं।

हुरुन की ओर से तैयार भारतीय अमीरों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया मुकेश अंबानी शीर्ष पर हैं। हुरुन ने उन्हीं को अरबपति माना है जिनकी संपत्ति करीब 6,000 करोड़ रुपये (एक अरब डॉलर) है।

देश के तीन दिग्गज दौलतमंद
नाम , संपत्ति
मुकेश अंबानी , 1.2 लाख करोड़ रुपये
दिलीप सांघवी , 1.02 लाख करोड़ रुपये
पी मिस्त्री व टाटा संस , 96 हजार करोड़ रुपये

जिंदल अकेली महिला अरबपति
अरबपतियों की सूची में सावित्री जिंदल ही एकमात्र महिला रहीं। उनकी व परिवार की संपत्ति 16,200 करोड़ रुपये है। सूची के मुताबिक 97 अमीर भारतीयों में से 41 को संपत्ति विरासत में मिली है, जबकि 56 अपने बल पर यहां तक पहुंचे हैं। इनमें से 6,000 करोड़ रुपये (एक अरब डॉलर) के साथ बायोकॉन की मुखिया किरण मजूमदार शॉ एकमात्र महिला हैं, जिन्हें पैतृक संपत्ति नहीं मिली है।

विश्व में बिल गेट्स शीर्ष पर
चीन के अलावा दुनिया के अमीर व्यक्तियों की सूची भी तैयार की गई। इसमें माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स शीर्ष पर रहे। गेट्स की संपत्ति 85 अरब डॉलर बताई गई। दूसरे स्थान पर मेक्सिको टेली के कार्लोस स्लिम और अमेरिका के निवेश गुरु वॉरेन बफे रहे। ताजा सूची के अनुसार जैक मा ने चीन के सबसे अमीर व्यक्ति का ताज गंवा दिया है। उनकी जगह 26 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ ली हेजुन चीन के सबसे बड़े दौलतमंद बन गए हैं। ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के संस्थापक जैक मा 24.5 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ चीन के रईसों में तीसरे नंबर पर पहुंच गए हैं।

पढ़ेंः दुनिया की सबसे कम उम्र की अरबपति महिला