नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। भारत में इस साल सामान्य मानसून रहने के आसार हैं और औसत बारिश 97 फीसद तक रह सकती है। मौसम विभाग ने इस साल अच्छी बारिश की संभावना जताई है जो कि देश के कृषि क्षेत्र के लिए एक राहतभरी खबर है। देश के मौसम ने सोमवार को यह घोषणा की है।

मौसम विभाग की ओर से की गई इस भविष्यवाणी में लॉन्ग पीरियड एवरेज (एलपीए) में 5 फीसद की प्लस-माइनस की त्रुटि भी शामिल है। 96 से 104 फीसद का आंकड़ा सामान्य मानसून माना जाता है। इससे पहले 4 अप्रैल को एक निजी वेदर फॉरकास्ट एजेंसी स्काई मेट ने भी सामान्य मानसून की बात कही थी और इसके अनुमान को 100 फीसद तक बताया था। इसमें भी पांच फीसद की प्लस-माइनस की त्रुटि शामिल थी।

हालांकि आईएमडी ने यह भी कहा कि सीजन के संबंध में साफ तस्वीर जून में ही सामने आएगी, जो कि 1 जून से 30 सितंबर तक चलता है। आईएमडी के डायरेक्टर जर्नल केजी रमेश ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा, “भारत में इस साल मानसून सामान्य रहेगा। अनुमान सुझाते हैं कि साल 2018 के दौरान बारिश पूरे देश में औसत ही रहेगी और कुल मिलाकर यह 97 फीसद से आसपास ही रहेगी।”

वर्ष 2017 में, उत्तर पश्चिमी भारत में औसत मौसमी वर्षा 95%, मध्य भारत में 106 फीसद, दक्षिण प्रायद्वीप में 92 फीसद और उत्तरपूर्व भारत में 89 फीसद रही थी। गौरतलब है कि इससे पहले साल 2016 में भी मॉनसून सामान्य रहा था, लेकिन साल 2014 और 2015 में मॉनसून कम होने की वजह से देश को सूखे की मार झेलनी पड़ी थी।

By Praveen Dwivedi