नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। फरवरी महीने में इंडस्ट्री की रफ्तार में सुस्ती देखने को मिली है। फरवरी में इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन यानि आईआईपी ग्रोथ 7.1 फीसद के स्तर पर रही है। वहीं, जनवरी में आईआईपी ग्रोथ 7.5 फीसदी रही थी।

आपको जानकारी के लिए बता दें कि जनवरी की आईआईपी ग्रोथ 7.5 फीसद के स्तर से संशोधित होकर 7.4 फीसद रह गई है। साथ ही साल दर साल के आधार पर अप्रैल से फरवरी के दौरान आईआईपी ग्रोथ 4.7 फीसद से घटकर 4.3 फीसद के स्तर पर आ गई है।

महीने दर महीने के आधार पर बाते करें तो फरवरी में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ परिवर्तन के 8.7 फीसद के स्तर पर रही है। महीने दर महीने के आधार पर फरवरी महीने में माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ 0.1 फीसद से घटकर (-)0.3 फीसद रही है। इसी तरह महीने दर महीने के आधार पर फरवरी में इलेक्ट्रिसिटी की ग्रोथ 7.6 फीसद से घटकर 4.5 फीसद के स्तर पर रही है।

महीने दर महीने के आधार पर फरवरी में कैपिटल गुड्स की ग्रोथ में बढ़त दर्ज की गई है। यह 14.6 फीसद से बढ़कर 20 फीसद हो गई है। वहीं दूसरी ओर महीने दर महीने के आधार पर फरवरी में प्राइमरी गुड्स की ग्रोथ की बात करें तो यह 5.8 फीसद से घटकर 3.7 फीसद रह गई है। फरवरी में इंटरमीडिएट गुड्स की ग्रोथ में भी गिरावट दर्ज की गई है। यह 4.9 फीसद से घटकर 3.3 फीसद रही है।

इसी क्रम में महीने दर महीने के आधार पर फरवरी में कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की ग्रोथ 8 फीसद से घटकर 7.9 फीसद के स्तर पर रही है। महीने दर महीने के आधार पर फरवरी महीने में कंज्यूमर नॉन-ड्यूरेबल्स की ग्रोथ 10.5 फीसद से गिरकर 7.4 फीसद रही है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021