नई दिल्ली (जेएनएन)। चालू वित्त वर्ष के अगस्त महीने में आईआईपी के आंकड़े उम्मीद से काफी बेहतर रहे हैं जिन्होंने तीन फीसद से ज्यादा का उछाल दर्ज किया है। मासिक आधार पर अगस्त महीने में आईआईपी ग्रोथ 1.2 फीसद से बढ़कर 4.3 फीसद हो गई है। आईआईपी में यह तेजी मैन्युफैक्चरिंग और माइनिंग सेक्टर में आई ग्रोथ के चलते देखने को मिली है। वहीं माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ जुलाई के 4.8 फीसद से बढ़कर 9.4 फीसद रही है।

साथ ही मासिक आधार पर मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ भी 0.1 फीसद से बढ़कर 3.1 फीसद रही है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की आइआइपी में करीब 77 फीसद की हिस्सेदारी है। महीने दर महीने के आधार पर अगस्त महीने में इलेक्ट्रीसिटी सेक्टर की ग्रोथ 8.3 फीसद रही है। जबकि इससे पहले महीने जुलाई में यह आंकड़ा 6.5 फीसद रहा था। मासिक आधार पर कैपिटल गुड्स की ग्रोथ जुलाई के (-0.1 फीसद) से बढ़कर 5.4 फीसद हो गई है। कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की बात की जाए तो यह जुलाई के (-1.3 फीसद) से बढ़कर 1.6 फीसद हो गया है। नॉन कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 6.9 फीसद रहा है। जुलाई महीने में यह 3.4 फीसद के स्तर पर रहा था। जुलाई महीने में इलेक्ट्रिसिटी सेक्टर की ग्रोथ 6.5 फीसद रही है।

जबकि इससे पहले महीने जून में यह आंकड़ा 2.1 फीसद रहा था। मासिक आधार पर प्राइमरी गुड्स आउटपुट 2.3 फीसद रहा है, जबकि जून में यह (-)0.2 फीसद रहा था।

 

Posted By: Surbhi Jain

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस