नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। ICICI Group की CSR इकाई ICICI Foundation For Inclusive Growth (ICICI Foundation) ने वर्ष 2021-22 में हिमालयी बेल्ट के दुर्गम इलाकों और दूरदराज के आदिवासी क्षेत्रों में उप-मंडल अस्पतालों को 1,800 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्रदान करने की योजना बनाई है। फाउंडेशन ने गुरुवार को इस बात का एलान किया। फाउंडेशन ने कहा कि ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्रदान करने का उद्देश्य इन क्षेत्रों में नागरिकों को मेडिकल इमरजेंसी की स्थिति में तत्काल ऑक्सीजन सहायता उपलब्ध कराना है।

ICICI Foundation 17 राज्यों के लगभग 175 जिलों में 700 से अधिक उप-मंडल अस्पतालों को यह ऑक्सीजन कंसंट्रेटर निशुल्क प्रदान करेगा। इसी सिलसिले में 300 से अधिक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का पहला बैच रवाना कर दिया गया है।

ICICI Foundation ने इन उच्च गुणवत्ता वाले ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खरीद दो कंपनियों- BPL मेडिकल टेक्नोलॉजीज और फिलिप्स इंडिया से की है। इन कंपनियों का देश भर में एक व्यापक सेवा नेटवर्क है, जो आवश्यकता पड़ने पर मशीनों के लिए त्वरित और कुशल रखरखाव सहायता सुनिश्चित करेगा। इसके अलावा, फाउंडेशन एक पावर बैक अप सिस्टम भी प्रदान कर रहा है ताकि बिजली के नहीं होने की स्थिति में भी कंसंट्रेटर्स मेडिकल-ग्रेड ऑक्सीजन को बिना किसी रुकावट के फिल्टर और उत्पादन कर सकें।

ICICI फाउंडेशन ने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स को इंस्टॉल करने और इनकी सर्विसिंग के बारे में एक विशेष कौशल प्रशिक्षण मॉड्यूल के सह-निर्माण के लिए BPL मेडिकल टेक्नोलॉजीज के साथ एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर भी हस्ताक्षर किए हैं। यह मॉड्यूल ICICI फाउंडेशन की इकाई ICICI एकेडमी फॉर स्किल्स द्वारा पेश किए जा रहे पाठ्यक्रम का हिस्सा होगा। यह एकेडमी समाज के वंचित वर्ग के युवाओं को निशुल्क व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करती है। यहां से प्रशिक्षण हासिल करने के बाद, सफल प्रशिक्षु ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स की सर्विसिंग के जरिये आजीविका कमा सकते हैं।

ICICI फाउंडेशन फॉर इनक्लूसिव ग्रोथ के प्रेसीडेंट सौरभ सिंह ने कहा, ''ICICI समूह के पास राष्ट्र निर्माण में योगदान देने और नागरिकों की भलाई के लिए निरंतर प्रयास करने की एक लंबी विरासत है। महामारी के प्रकोप के बाद से, ICICI समूह ने देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 551 से अधिक जिलों में राहत कार्य शुरू किया है। महामारी के खिलाफ अपनी लड़ाई में राष्ट्र का समर्थन करने के लिए समूह ने 200 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। इस दौरान फाउंडेशन ने PM CARES Fund में समूह की ओर से योगदान दिया है और इसके साथ ही राज्य सरकारों के साथ-साथ स्थानीय अधिकारियों को वेंटिलेटर, सैनिटाइजर, मास्क और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण जैसी सामग्री की आपूर्ति की है और देश के कई हिस्सों में चिकित्सा संबंधी बुनियादी ढांचे को बेहतर बनाने की दिशा में अपनी ओर से योगदान किया है।''