नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। नीती आयोग के उपाध्यक्ष उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने आज ग्रोथ रेट में तेजी लाने की जोरदार वकालत की ताकि देश के युवाओं को रोजगार देने में कोई परेशानी न आए और विभिन्न मोर्चों पर चीन के साथ प्रतिस्पर्धा की जा सके।

उन्होंने कहा कि अगर देश की बढ़ती युवा आबादी के लिए रोजगार पैदा नहीं किए जाएंगे तो डेमोग्राफिक डिविडेंड (जनसांख्यिकीय विभाजन) डेमोग्राफिक नाइटमेयर (जनसांख्यिकीय दुःस्वप्न) में तब्दील हो जाएगा। उन्होंने कहा, “हमारे देश की बढ़ती युवा आबादी खराब गुणवत्ता वाली नौकरियों को स्वीकार करने वाली नहीं है और उस ग्रोथ रेट को भी नहीं जो कि उनकी आकांक्षाओं को पूरा न करती हो।” कुमार ने यह टिप्पणी इंस्टीट्यूट फॉर स्टडीज इन इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट (आईएसआईडी) के फाउंडेशन डे फंक्शन में एक व्याख्यान के दौरान की।

उन्होंने कहा, “अगर हम इस विशाल ऊर्जा की कामना नहीं करते हैं, तो यह बार-बार जनसांख्यिकीय संक्रमण की बात करता है जो खुद को जनसांख्यिकीय दुःस्वप्न में परिवर्तित करता है,जिसके बारे में मैं आश्वस्त कर सकता हूं कि यह बहुत जल्द हो सकता है। अगर हम ऐसा नहीं चाहते हैं (ऐसा होने के लिए) तो हमें विकास दर में तेजी लानी होगी और विकास की वृद्धि दर को और अधिक समावेशी बनाना होगा।”

यहां चीन की जिक्र करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि भारत को उत्तरी सीमा में चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि चीन उसी आर्थिक विकास दर पर था जहां भारत 30 साल पहले था लेकिन अब वह भारतीय अर्थव्यवस्था से पांच गुना हो चुका है।

Posted By: Praveen Dwivedi